कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू गुरुवार को पाकिस्तान के करतारपुर साहिब गुरुद्वारे में मत्था टेकने जा रहे ‘जत्थे’ का हिस्सा नहीं होंगे, बुधवार रात सिद्धू के मीडिया सलाहकार सुरिंदर दल्ला ने दावा किया कि सिद्धू को आधिकारिक तौर पर सूचित किया गया है कि वो 18 नवंबर के बजाय 20 नवंबर को करतारपुर साहिब गुरुद्वारे जा सकते हैं।

दल्ला ने कहा सिद्धू ने कल करतारपुर साहिब गुरुद्वारे जाने की पूरी तैयारी कर ली थी।  उन्होंने कहा कि सिद्धू ने मंगलवार को पाकिस्तान के ऐतिहासिक दरगाह में पूजा-अर्चना करने के लिए जाने के लिए अपना आवेदन जमा किया था। अधिकारियों ने बताया कि पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी अपने मंत्रियों के साथ उस जत्थे का हिस्सा होंगे जो गुरुवार को करतारपुर साहिब गुरुद्वारे का दौरा करेगा। उन्होंने बताया कि चन्नी के साथ कुछ विधायक और कुछ अधिकारी भी होंगे।

बता दें कि करतारपुर कॉरिडोर,जो पाकिस्तान में गुरुद्वारा दरबार साहिब, सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव के अंतिम विश्राम स्थल, को गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक मंदिर से जोड़ता है, बुधवार को फिर से खुल गया है। गुरु नानक की जयंती के रूप में मनाया जाने वाला गुरुपर्व 19 नवंबर को मनाया जाएगा। करतारपुर साहिब गुरुद्वारे की तीर्थयात्रा मार्च 2020 में कोविड महामारी के कारण निलंबित कर दी गई थी।