भारतीय डिजिटल भुगतान कंपनी पेटीएम गुरुवार को शेयर बाजार में पदार्पण करने के लिए तैयार है, क्योंकि पिछले हफ्ते भारत की सबसे बड़ी $2.5 बिलियन की आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) को ओवरसब्सक्राइब किया गया था। पेटीएम का 18,300 करोड़ रुपये का आईपीओ देश के इतिहास में सबसे बड़ा है और इसे कुल 1.89 गुना सब्सक्राइब किया गया था।

बाजार विश्लेषकों ने कहा है कि गुरुवार को Paytm के शेयरों की लिस्टिंग कमजोर रहने वाली है। कंपनी के इश्यू को भी कमजोर प्रतिक्रिया मिली थी जिससे इसकी लिस्टिंग भी कमजोर रहने का अनुमान है। मार्केट एक्सपर्ट्स के मुताबिक, कमजोर सब्सक्रिप्शन, ग्रे मार्केट में घटते प्रीमियम, हाई वैल्यूएशन और आगे कड़ी प्रतियोगिता होने के कारण Paytm की लिस्टिंग कमजोर रहने का चांस है।

वहीं मार्केट एक्सपर्ट्स के मुताबिक हाई ब्रांड वैल्यू और मजबूत सर्विस नेटवर्क भी कंपनी की लिस्टिंग को मजबूत बनाने में कामयाब नहीं हो पाएगा।

बता दें कि IPO Watch और IPO Central के मुताबिक ग्रे मार्केट में पेटीएम का शेयर 2,150 रुपये के इश्यू प्राइस से 30 रुपये यानी 1.4 फीसदी प्रीमियम पर ट्रेड कर रहा है। इसकी कीमत में लगातार गिरावट आई है।

यह स्टॉक 7 नवंबर को ग्रे मार्केट में 2,300 रुपये प्रति शेयर के भाव पर ट्रेड कर रहा था। यह इसके इश्यू प्राइस से 150 रुपये यानी 7 फीसदी अधिक है। आईपीओ के पहले दिन यानी 8 नवंबर को यह गिरकर 80 रुपये पर आ गया था जबकि इश्यू के अंतिम दिन यानी 10 नवंबर को यह प्रीमियम 40 रुपये रह गया।