कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार देर रात लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा में मारे गए किसानों के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें हरसंभव मदद का वादा किया.

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उन्हें हिंसा प्रभावित जिले का दौरा करने की अनुमति देने के बाद वे लखीमपुर पहुंचे। बाद में रात में पत्रकारों से बात करते हुए, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि जिन तीन परिवारों से वह मिलीं वे न्याय चाहते हैं। तीनों परिवारों ने एक बात कही है कि उन्हें मुआवजे की चिंता नहीं है, लेकिन वे न्याय चाहते हैं।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा के इस्तीफे के लिए दबाव डालते हुए  पीड़ितों के परिवारों ने तब तक न्याय नहीं मिलेगा जब तक मंत्री इस्तीफा नहीं देते क्योंकि निष्पक्ष जांच संभव नहीं है क्योंकि वह गृह राज्य मंत्री हैं।

प्राथमिकी में नामजद मंत्री के बेटे के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘उन्हें गिरफ्तार किया जाना चाहिए। वे हमें बिना एफआईआर या आदेश के गिरफ्तार कर सकते हैं? अपराधियों को गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा रहा है

इससे पहले, राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी सीतापुर के एक पुलिस गेस्ट हाउस से एक कार में एक साथ लखीमपुर के लिए रवाना हुए, जहां उन्हें सोमवार सुबह से ही हिरासत में रखा गया था।