अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस शुक्रवार को राष्ट्रपति पद संभालने वाली पहली महिला बनी। बता दें कि  अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन शुक्रवार को रूटीन ‘कोलोनस्कॉपी’ चेकअप कराने के लिए वाल्टर रीड नेशनल मिलिट्री मेडिकल सेंटर गए थे। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने बताया कि ‘कोलोनस्कॉपी’ के दौरान बाइडन ‘एनिसथीसिया’ प्रभाव में रहेंगे, इसी वजह से उन्होंने कुछ समय के लिए अपनी शक्तियां हैरिस को सौंपी हैं।

पहली अश्वेत और पहली दक्षिण एशियाई उप राष्ट्रपति हैरिस ने एक और बाधा तोड़ दी क्योंकि वह देश में राष्ट्रपति पद धारण करने वाली पहली महिला बनीं है। साकी के अनुसार, हैरिस ने वेस्ट विंग में अपने कार्यालय से काम किया।  जेन साकी ने बताया कि बाइडन ने स्थानीय समयानुसार 11 बजकर 35 मिनट पर हैरिस और व्हाइट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ रोन क्लैन से बातचीत की, जिसके बाद हैरिस ने अपना दायित्व संभाल लिया।

बिडेन शनिवार को 79 वर्ष के हो गए, शुक्रवार की सुबह बिडेन ने वाल्टर रीड मेडिकल सेंटर में अपनी पहली नियमित वार्षिक शारीरिक परीक्षा से गुजरने के लिए पहुंचे, सीएनएन के अनुसार, अमेरिका में, जब भी राष्ट्रपति की आवश्यकता होती है, तो उपराष्ट्रपति के लिए राष्ट्रपति की शक्तियों को ग्रहण करना सामान्य है।

साकी ने शुक्रवार को जानकारी दी कि राष्ट्रपति जो बाइडेन उपराष्ट्रपति कमला हैरिस को शक्तियां ट्रांसफर करेंगे। इस दौरान वह अपने इलाज के लिए एनिस्थिसिया लेंगे। जो बाइडेन हर साल कॉलोनोस्कोपी करवाते हैं। ऐसे में कार्यवाहक उपराष्ट्रपति को नियुक्त किया जाएगा। अमेरिका में जब भी राष्ट्रपति को एनेस्थीसिया की आवश्यकता होती है, तो उपराष्ट्रपति के लिए राष्ट्रपति की शक्तियों को ग्रहण करना सामान्य बात है।