भारतीय पुरुष हॉकी टीम ओलंपिक सेमीफाइनल में बेल्जियम से हार गई है. मैच में भारत ने दो गोल किए इसके मुकाबले बेल्जियम ने पांच गोल दागे और फाइनल में जगह बनाई. इस हार के साथ ही भारत गोल्ड और सिल्वर की रेस से भले ही बाहर हो गया हो लेकिन अभी कांस्य पदक उम्मीद बरकरार है. दूसरे सेमीफाइनल के विजेता फाइनल में खेलेंगे तो वहीं हारने वाली टीम का मुकाबला कांस्य पदक के लिए भारत के साथ होगा.

इससे पहले भारत ने शानदार वापसी करते हुए शुरुआती दस मिनट में ही बेल्जियम के खिलाफ 2-1 की बढ़त बना ली है. भारत के लिए पहला गोल खेल के 10 वें मिनट में हरमनप्रीत सिंह और दूसरा गोल मंदीप सिंह ने कुछ ही देर बाद किया, लेकिन दूसरे क्वार्टर की शुरुआत में बेल्जियम को एक के बाद एक तीन पेनल्टी कॉर्नर मिले, जो भारत ने बचा लिए, लेकिन कुछ देर बाद फिर से पेनल्टी कॉर्नर मिला, जो श्रीजैश नहीं बचा सके और बेल्जियम ने मुकाबले को फिर से बराबरी पर ला दिया. और जब यह बराबी की गयी, तो भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी सुबह-सुबह मैच देख रहे थे और उन्होंने इसे लेकर ट्वीट भी किया और टीम को शुभकामनाएं दीं. 

सेमीफाइनल मैच का दूसरा क्वार्टर भी काफी रोमांचक रहा. इसमें दोनों टीमों को पेनल्टी कॉर्नर मिले. गेम के तीसरे क्वार्टर में भारत को पांचवां पेनल्टी कॉर्नर मिला. हालांकि टीम इसे गोल में नहीं बदल पाई.  मैच के चौथे क्वार्टर में बेल्जियम ने पेनल्‍टी स्‍ट्रोक मिला और हेंड्रिक्‍स ने एक और गोल दाग दिया. इस गोल के साथ बेल्जियम ने भारत पर 5-2 से लीड हासिल कर ली. 


पीएम मोदी ने भी देखा मैच

सेमीफाइनल में पूरा देश भारतीय टीम का हौसला बढ़ा रहा था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इसमें शामिल हुए.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर जानकारी दी है कि वे भारत का यह मैच देख रहे हैं. इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने टीम इंडिया को शुभकामनाएं भी दीं.  प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर लिखा, ‘मैं भारत और बेल्जियम का हॉकी पुरुष सेमीफाइनल देख रहा हूं. हमें हमारी टीम और उनके कौशल पर गर्व है. उन्हें बहुत-बहुत शुभकामनाएं!