बिहार के पश्चिमी चंपारण में बुधवार से अब तक कम से कम 16 लोगों की रहस्यमय तरीके से मौत हो गई है. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, शुक्रवार को देउरावा, जोगिया और बगही गांवों के रहने वाले आठ लोगों की मौत हो गई. पुलिस ने 5 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है और मामले की आगे की जांच कर रही है. बिहार पुलिस जहरीली शराब की घटना के एंगल से जांच कर रही है.

वहीं बिहार की डिप्टी सीएम रेणु देवी ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि जांच जारी है. संबंधित अधिकारी इस पर काम कर रहे हैं.  स्थानीय लोग इसके बारे में बात करने के लिए तैयार नहीं हैं.  हम स्थिति पर करीब से नजर रख रहे हैं. तो वहीं जिला मजिस्ट्रेट कुंदन कुमार ने कहा कि अब तक मारे गए कुल मृतकों में से आठ लोगों के परिवारों ने अभी तक शराब के सेवन का उल्लेख नहीं किया है.

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली बिहार सरकार पर कटाक्ष करते हुए व्यंग्यात्मक टिप्पणी की कि सुशासन के तहत नकली शराब के कारण हर साल हजारों लोग मर रहे हैं. बिहार में  सुशासन के तहत हर साल हजारों लोग नकली शराब से मर रहे हैं. शराबबंदी की आड़ में, सत्ताधारी पार्टी के लोग बिहार में 20,000 करोड़ रुपये की समानांतर अवैध अर्थव्यवस्था चला रहे हैं. लाखों दलित और गरीब जेलों में बंद हैं. पुलिस भ्रष्ट और अत्याचारी हो गई है.