संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने तीन कृषि कानूनों के अधिनियमन के एक वर्ष को चिह्नित करने के लिए सोमवार (27 सितंबर) को भारत बंद का आह्वान किया है. देशव्यापी हड़ताल सुबह छह बजे से शुरू होकर शाम चार बजे तक चलेगी. इस दौरान किसानों ने विभिन्न राज्य की सीमाओं और राष्ट्रीय राजमार्गों को जाम करना शुरू कर दिया है.

वहीं भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने सोमवार को किसान संघ द्वारा भारत बंद के आह्वान पर बात की और कहा कि एम्बुलेंस, डॉक्टर या आपात स्थिति में जाने वाले लोग गुजर सकते हैं.  उन्होंने कुछ भी सील नहीं किया है और सिर्फ एक संदेश देना चाहते हैं. टिकैत ने कहा  हम दुकानदारों से अपील करते हैं कि वे अपनी दुकानें फिलहाल बंद रखें और शाम चार बजे के बाद ही खोलें. यहां कोई भी किसान बाहर से नहीं आ रहा है.

संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने सितंबर 2020 में संसद में पारित किए गए तीन कृषि कानूनों के अधिनियमन के एक वर्ष को चिह्नित करने के लिए भारत बंद का आह्वान किया है। एक राष्ट्रव्यापी हड़ताल सुबह 6 बजे शुरू हुई है और शाम 4 बजे तक चलेगी। इस दौरान किसानों ने विभिन्न राज्य की सीमाओं और राष्ट्रीय राजमार्गों को अवरुद्ध करना शुरू कर दिया है.