स्मार्टफोन के बढ़ते प्रचलन के साथ-साथ इनके साथ होने वाले फ्रॉड और हैक भी बढ़ गए हैं. ऐसे में ही आईफोन का एक बग सामने आया है. कहा जा रहा है कि ये बग आईफोन के हर मॉडल और आईओएस ऑपरेटिंग सिस्टम के हर वर्जन को प्रभावित करेगा. इस बग को नो रिबूट कहा जा रहा है, इसके साथ ये भी कहा जा रहा है कि ये बग सबसे मुश्किल बग है, जिसे फाइंड करना और फिक्स करना अभी तक कंपनी के लिए काफी मुश्किल रहा है. तो आइए हम आपको इस बग के बारे में विस्तार से बताते हैं.

इस बग को सबसे पहले मोबाइल सिक्योरिटी स्पेशलिस्ट द्वारा डिटेक्ट किया गया है. उन्होंने आईफोन यूज़र्स को चेतावनी अपने ब्लॉग पोस्ट में जारी करते हुए कहा है कि ये बग आपके आईफोन के शट डाउन इवेंट को अल्टर करते हुए यूज़र को ये अहसास दिलाता है कि उनका स्मार्टफोन शटडाउन हुआ है.

लेकिन असल में ये शटडाउन नहीं होता बल्कि स्मार्टफोन ऑन ही रहता है और फोन के इन कॉल सर्विस, स्प्रिंग बोर्ड और बैकबोर्ड बैकग्राउंड प्रोसेस को हाईजैक करता है जो कि आईफोन के रिबूट प्रोसेस को कंट्रोल करता है.

ब्लॉग लिंक: https://blog.zecop.com/research/persistence-without-persistence-meet-the-ultimate-persistence-bug-noreboot/

कैसे है ये बग खतरनाक

ये बग आपके आईफोन को हैकर्स के लिए आसान शिकार बनाता है. ये बग हैकर्स को आपके आईफोन को आसान और लगातार शिकार बना देता है. हालांकि इस बग को यूजर अपने आईफोन को रीस्टार्ट या फोन को दुबारा ऑन कर के हटा सकते हैं, लेकिन ये इतना आसान नहीं है जितना आपको लग रहा है.

NoReboot कोड के साथ हैकर्स द्वारा किया जाने वाला डैमेज बढ़ जाता है, और यूज़र आसानी से इस बग से छुटकारा नहीं पा सकतें. चूंकि, हैकर्स हैक फोन के डेटा को अपने कंट्रोल सर्वर पर भेजते हैं. इसीलिए एक बार बग के चले जाने के बाद भी आपके डिवाइस को मॉनिटर कर सकते हैं.

क्या है कंपनी के लिए उपाय
ZecOps के अनुसार, ऐपल इस बग को रिजॉल्व नहीं कर सकती, क्योंकि वो इस बग के लिए सॉफ्टवेयर कोड को पैच नहीं कर सकती है. इसका एक हल है अगर कंपनी आईफोन के ऑन ऑफ डिटेक्ट करने के लिए नया हार्डवेयर लगाए जो कि हर डिवाइस में लगाना संभव नहीं है. कंपनी नए डिवाइस में ये हार्डवेयर लगा सकती है लेकिन तब भी कंपनी के लाखो डिवाइस हैकर्स की चपेट में होंगे.