उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव को लेकर फ्री बिजली का दांव राजनीतिक दलों ने चलना शुरू कर दिया है. सपा ने औपचारिक तौर पर 300 यूनिट फ्री बिजली की घोषण की है. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के इस दव ने सूबे की सियासत में नया करंट दौड़ा दिया है. अखिलेश ने ये घोषण दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के लखनऊ दौरे से ठीक पहले की है.

वहीं अब मुफ्त बिजली से सत्ता का बल्ब जलाने वाला फॉर्मूला अब अखिलेश यादव के चुनावी घोषणा में भई शामिल हो गया है. सीधे आम आदमी से जुड़ा मुफ्त बिजली वाला सफल प्रयोग केजरीवाल को दिल्ली की गद्दी तक पहुंचा चुका है. इसी दव के सहारे अखिलेश यादव वोट का बल्ब जलाकर सत्ता की चमक से फिर समाजवादी पार्टी को रौशन करने की आस में हैं.

बता दें कि 200 यूनिट तक मुफ्त की बिजली का वादा करके केजरीवाल सीएम की कुर्सी तक पहुंचे थे. बड़ी बात ये भी है कि जिस आम आदमी पार्टी के दांव को अखिलेश ने चुनावी वादा बनाया है, उससे खुद समाजवादी पार्टी के गठबंधन की भी चर्चा है. बीते 24 नवंबर को AAP सांसद संजय सिंह ने अखिलेश यादव से मुलाकात की थी. चुनावी माहौल में दोनों नेताओं ने लंबी बात की थी.

वहीं अखिलेश के फ्री बिजली के वादे के बाद AAP के यूपी प्रभारी संजय सिंह ने कहा 300 यूनिट फ्री बिजली देने का सपना AAP ही पूरा कर सकती है. यह पूरी रिसर्च करके, अभियान चलाकर, घर-घर जाकर, बिजली फ्री गारंटी का कार्ड देकर AAP कर चुकी है. किसी पार्टी की एक विश्वसनीयता होती है और वह विश्वसनीयता अरविंद केजरीवाल जी की पार्टी के साथ जुड़ी है. 300 यूनिट फ्री बिजली देने का सपना AAP ही पूरा कर सकती है। यह पूरी रिसर्च करके, अभियान चलाकर, घर-घर जाकर, बिजली फ्री गारंटी का कार्ड देकर AAP कर चुकी है।किसी पार्टी की एक विश्वसनीयता होती है.

बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आज दोपहर लखनऊ के स्मृति उपवन मैदान में एक रैली को संबोधित करेंगे. जानकारी के मुताबिक इस रैली के लिए AAP नेताओं ने पूरे उत्तर प्रदेश का दौरा किया है और 300 यूनिट मुफ्त बिजली, 10 लाख नौकरी और बेरोजगारी भत्ता जैसे वादों पर लोगों से समर्थन पत्र लिया है. पहले यह रैली 28 नवंबर को होनी थी, जिसे पार्टी के अनुसार टीईटी परीक्षा के कारण रद्द कर दिया गया था.