एक जनवरी से ही ठंड ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया. दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत  में कड़ाके की ठंड पड़ रही है. दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान सहित देश के कई राज्य इस समय शीतलहर के कारण ठंड से ठिठुर रहे हैं. मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार शीतलहर से 03 जनवरी तक राहत मिलने की उम्मीद नहीं है.

वहीं मौसम विभाग  के अनुसार, उत्तर पश्चिम भारत के मैदानी इलाकों में 4-5 जनवरी को हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है. वहीं, पश्चिमी हिमालयी इलाकों में हल्की बारिश के साथ बर्फबारी होने से तापमान में भारी गिरावट आने की संभावना है.  मौसम अनुसार एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक, बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पश्चिम में चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है. वहीं, जम्मू-कश्मीर पर एक कमजोर पश्चिमी विक्षोभ यानी वेस्टर्न डिस्टर्बेंस बना हुआ है.  4 जनवरी तक पश्चिमी विक्षोभ मजबूत होकर पश्चिमी हिमालय के पास पहुंच सकता है.

तो वहीं पश्चिमी विक्षोभ यानी वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के असर से 4 दिसंबर तक पंजाब और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में घना कोहरा और उत्तर मध्य प्रदेश और पूर्वोत्तर भारत में मध्यम कोहरा छाया रह सकता है. उत्तर भारत को 3 जनवरी के बाद शीतलहर से मामूली राहत मिलने की उम्मीद है, हालांकि न्यूनतम तापमान फिलहाल 04 डिग्री सेल्सियस के आप-पास रहने का अनुमान है.

इसी के साथ पश्चिमी विक्षोभ के मजबूत होने पर पहाड़ों पर बर्फबारी और हल्की बारिश हो सकती है. जिससे मैदानी इलाकों में भी पारा गिरेगा. दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के राज्यों में 7 जनवरी के बाद एक बार फिर बर्फीली हवा चलेगी. ऐसे में कड़ाके की ठंड से अभी राहत मिलती दिखाई नहीं दे रही है.

बता दें कि मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली में 2 जनवरी को न्यूनतम पारा 4 डिग्री सेल्सियस रहने की उम्मीद है, जबकि अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है. वहीं मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटे में लद्दाख और जम्मू-कश्मीर के कुछ हिस्सों और उत्तराखंड के इलाकों में हल्की से मध्यम बारिश और हिमपात होने की संभावना है. जबकि तमिलनाडु के तटीय इलाकों में हल्की से मध्यम बारिश का सिलसिला जारी रहेगा. कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है.