अलीगढ़ मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन देने पहुंचे जिलाधिकारी कार्यालय पर मौजूद शिक्षकों ने सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन धरना कर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि अगर सरकार ने जल्द प्राइवेट स्कूलों को नहीं खोला तो प्रदेश सरकार के खिलाफ आमरण अनशन किया जाएगा. साथ ही कहा जब एक चाणक्य राजनीति की दशा और दिशा बदल सकता है, तो भुखमरी की कगार पर पहुंचे 10 लाख बेरोजगार हुए शिक्षक भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लखनऊ की कुर्सी से उठाकर गोरखपुर के मठ पर बिठाने का काम करेंगे.

बता दें कि उत्तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ में कोरोना महामारी के चलते बंद किए गए प्राइवेट स्कूलों के शिक्षकों के सब्र का बांध टूट गया.  जिसके बाद स्कूल बंद होने से बेरोजगार हुए शिक्षकों ने स्कूलों को खोले जाने के लिए मुख्यमंत्री के नाम जिलाअधिकारी कार्यालय पहुंचकर एक ज्ञापन सौंपा है.  इस दौरान प्राइवेट स्कूल के प्रबंधक कर्मचारी और शिक्षकों से लेकर अन्य लोग भी शामिल थे. ज्ञापन के दौरान शिक्षकों ने मांग करते हुए कहा कि आज प्रदेश में कोरोना संक्रमण पूरी तरह से खत्म हो चुका है. लेकिन उसके बावजूद भी उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा प्राइवेट स्कूलों को साजिश के तहत बंद रखा हुआ है.

जहां प्राइवेट स्कूल बंद होने के चलते स्कूल प्रबंधक शिक्षक और कर्मचारी पूरी तरह से बेरोजगार हो भुखमरी की कगार पर पहुंच गए हैं. जबकि स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों का कोरोना वायरस के चलते 2 वर्ष से शैक्षणिक स्तर पूरी तरह से चौपट हो गया है.  वहीं स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे अब दुकानों फैक्ट्रियों ढकेलो और बाजारों में काम कर रहे हैं. बच्चों के स्कूल ना आने के चलते फीस नहीं मिल रही हैं.  जिससे शिक्षकों का रोजगार पूरी तरह चौपट हो गया है.

वहीं शिक्षकों ने उत्तर प्रदेश सरकार को चेतावनी देते हुए सख्त लहजे में कहा गया कि अगर सरकार ने कोरोना के नाम पर बंद किए स्कूलों को जल्द खोला नहीं, तो प्राइवेट स्कूल के सभी प्रबंधक शिक्षक और कर्मचारी आमरण अनशन करने को मजबूर होंगे, तो वहीं स्कूल बंद होने के चलते विरोध जता रहे शिक्षकों ने कहां जब चाणक्य राजनीति की दशा और दिशा बदल सकता है,  तो 10 लाख बेरोजगार हुए शिक्षक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लखनऊ की कुर्सी से उठाकर गोरखपुर के मठ पर भेजने का काम करेंगे. सरकार ने बच्चों का भविष्य और बेरोजगार होते शिक्षकों की मांग नहीं मानी तो शिक्षकों द्वारा सरकार के खिलाफ आमरण अनशन किया जाएगा.