भारत ने भारतीय फोटो पत्रकार दानिश सिद्दीकी की हत्या की निंदा की है. बता दें कि  समाचार एजेंसी रॉयटर के लिए काम करने वाले पुलित्जर पुरस्कार विजेता भारतीय फोटो पत्रकार दानिश सिद्दीकी की मौत शुक्रवार को अफगानिस्तान के कंधार प्रांत में पाकिस्तान से लगे एक ‘बॉर्डर क्रॉसिंग’ के पास अफगान सैनिकों और तालिबान आतंकवादियों के बीच लड़ाई की कवरेज करने के दौरान हो गई.

वहीं यूएनएससी में विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि हम भारतीय फोटो पत्रकार दानिश सिद्दीकी की हत्या की निंदा करते हैं, जब वह कल अफगानिस्तान के कंधार में रिपोर्टिंग असाइनमेंट पर थे. मैं उनके शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं.

बता दें कि दानिश सिद्दीकी का शव तालिबान ने अंतरराष्ट्रीय रेडक्रॉस समिति (आईसीआरसी) को सौंप दिया है. जानकारी के अनुसार शुक्रवार को तालिबान द्वारा रेडक्रॉस समिति को शव सौंपे जाने की सूचना भारत को दे दी गई है, और भारतीय अधिकारी पत्रकार के शव को वापस लाने के लिए काम कर रहे हैं. इस संबंध में एक सूत्र ने कहा कि हमें सूचना मिली है कि तालिबान ने शव आईसीआरसी को सौंप दिया है. हम अफगान अधिकारियों और आईसीआरसी के साथ मिलकर शव को वापस लाने के लिए काम कर रहे हैं.

दानिश ने मास कम्युनिकेशन का कोर्स एमसीआरसी जामिया मिल्लिया इस्मलामिया नई दिल्ली से किया था. उसके बाद वो टीवी रिपोर्टर के तौर पर वो अलग-अलग टीवी चैनलों से जुड़े. इसके बाद वो फोटोग्राफी के क्षेत्र में उतरे. दिल्ली में पैदा हुए और बढ़े हुए दानिश का परिवार जामिया यूनिवर्सिटी के पास के इलाके गफ्फार मंज़िल में रहता है. उनकी पत्नी जर्मन हैं और दो बच्चे हैं.