1 जुलाई तक महाराष्ट्र के ठाणे जिले में कोरोना वायरस से कुल पांच लाख 79 हजार 651 मरीज संक्रमित हुए. जिनमें से पांच लाख 53 हजार 115 ठीक हो गए और 10 हजार 388 ने वायरस से दम तोड़ दिया. लेकिन शाहपुर तालुका का कालभोंडे गांव कोरोना को दूर रखने में पूरी तरह सफल रहा. ठाणे जिले का कालभोंडे गाँव एक केस-स्टडी बन गया है, जहाँ गाँव में COVID-19 संक्रमण का एक भी मामला दर्ज नहीं किया गया है.

बता दें कि कालभोंडे की आबादी 1,560 है और यह 1,800 हेक्टेयर में फैला है. ठाणे जिले के शाहपुर तालुका में स्थित है और कस्बों और शहरों से बहुत दूर है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोरोना की पहली लहर के दौरान जिला स्वास्थ्य अधिकारियों और ग्रामसेवकों ने ग्रामीणों में वायरस के प्रति जागरूकता पैदा की. सरपंच और पुलिस पाटिल ने नागरिकों को गांव में ही रहने को कहा है. बाहर से आने वालों को क्वारंटाइन में रहने को कहा गया और जांच के बाद गांव में प्रवेश करने दिया गयाय

वहीं ग्रामीणों के ऐसे तमाम प्रयासों से ठाणे जिले के कालभोंडे गांव में कोरोना की पहली और दूसरी लहर में एक भी मरीज दर्ज नहीं हुआ. अब ग्रामीणों ने तीसरे चरण की तैयारी शुरू कर दी है.