उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव से पहले देश में फैली इस कोरोना महामारी ने ग्रामीण क्षेत्रों के गांवो के अंदर भी पंचायत चुनाव के बाद कोरोना संक्रमण ने लोगों पर अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया है. जहां कोरोना महामारी से अनजान गांव के लोग अब एक के बाद एक-एक करके मौत के नींद सोते जा रहे है. कुछ ऐसे ही लोगों की मौतो की तस्वीरे अब ग्रामीण इलाकों के गांवो से निकलकर लगातार सामने आने लगी है. जहा लोगों की लगातार गांव में हो रही मौतो के बाद इस कोरोना महामारी के चलते इन मौतो से गांव के भोले-भाले ग्रामीणों में भी दहशत फैल गई है.

कोरोना की दूसरी लहर लोगों के लिए काल बनकर आई है. हर तरफ बीमार और लाशों के ढेर लगे नजर आ रहे हैं. अलीगढ़ की तहसील अतरौली थाना गंगीरी इलाके के गांव बुढारी बुजुर्ग में बीते 24 घंटे के अंदर बीमारी के चलते अलग अलग निजी अस्पतालों में इलाज के दौरान चार लोगों की मौत हो गई. सभी म्रतक को बुखार और सांस लेने में तकलीफ से हो रही थी. जहा कुछ ही घंटों में एक के बाद इन एक चार लोगों की मौतो से गांव बुढारी बुजुर्ग के ग्रामीणों लोगों में दहशत का माहौल बन गया.

गांव बुढारी बुजुर्ग निवासी 72 साल के इस्लाम खां को बुखार और सांस लेने दिक्कात हुई. परिवार के लोगों म्रतक को उपचार के लिए अलीगढ़ शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया था. जहा इलाज के दौरान इस्लाम खां की मौत हो गई. तो वही गांव के 65 साल के सौदान सिंह की भी इसी तरह बीमारी के चलते गुरुवार की सुबह अलीगढ़ के निजी अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई. इसी गांव के 52 साल के चंद्रपाल सिंह को बुखार और सांस की तकलीफ की समस्या के चलते गुरुवार की शाम चार बजे निजी अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. तो वही इसी गांव 35 साल के मुकेश कुमार को भी यही बीमारी उसकी जिंदगी को निगल गई.

ग्रामीणों का कहना है कि गांव में इतने लोगों की मौत होने पर भी स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में नही पहुंची है. और ना ही गांव के अंदर सैनिटाइजेशन का कार्य कराया गया है. तो वहीं गांव के लोगों को इलाज समय पर ना मिल पाने के कारण गांव के लोग अपनी जान गवा रहे है. जहा लगातार हो रही मौतो से इस गांव के लोग दहशत के चलते भयभीत हैं.