शिवसेना ने केंद्र की मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है. कोरोना महामारी के बीच व्यवस्था को लेकर उन्होंने कहा कि नेहरू-गांधी की वजह से भारत कठिन समय के खिलाफ लड़ पा रहा है. मुख्यमंत्री ने कहा कि पंडित जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी और मनमोहन सिंह समेत पूर्व प्रधानमंत्रियों की ओर से बनाई गई व्यवस्था के कारण ही आज देश को कठिन समय से पार पाने में मदद मिल रही है.

बता दें कि शिवसेना ने शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस से निपटने में जहां पड़ोस के छोटे देश भारत को मदद की पेशकश कर रहे हैं वहीं मोदी सरकार कई करोड़ के सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के काम को रोकने के लिए भी तैयार नहीं है. वहीं शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के एक संपादकीय में लिखा है कि “यूनिसेफ ने डर व्यक्त किया है कि भारत में जिस गति से कोरोना वायरस फैल रहा है उससे दुनिया को वायरस से खतरा है. इसने यह भी अपील की है कि अधिकतम देशों को कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत की मदद करनी चाहिए. बांग्लादेश ने रेमडेसिविर की 10,000 शीशियां भेजी हैं जबकि भूटान ने चिकित्सीय ऑक्सीजन. नेपाल, म्यामार और श्रीलंका ने भी ‘आत्मनिर्भर’ भारत की मदद की पेशकश की है.

साथ ही सामना ने बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी के बयान के हवाले से लिखा कि मौजूदा स्वास्थ्य मंत्रालय पूरी तरह विफल रहा है. इससे पहले सुब्रमण्यम स्वामी मांग की थी कि स्वास्थ्य मंत्रालय केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को दी जाए. सामना में लिखा गया है, ”देश साफ तौर पर, भारत नेहरू-गांधी की ओर से बनाई गई व्यवस्था के सहारे है. कई गरीब देश भारत को मदद की पेशकश कर रहे हैं. इससे पहले, पाकिस्तान, रवांडा और कॉन्गो जैसे देश दूसरों से मदद लेते थे. लेकिन आज के शासकों की गलत नीतियों के कारण देश इस स्थिति से गुजर रहा है.