यूपी के बलिया जनपद में बैरिया के चर्चाओं में रहने वाले भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने कोरोना नियंत्रण प्रबंधन में बदइंतजामी का आरोप लगाते हुए अपनी ही सरकार को कठघरे में खड़ा किया है. भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नौकरशाही के जरिये कोविड नियंत्रण का प्रयास असफल रहा है. प्रशासनिक अधिकारी मुख्यमंत्री को अंधेरे में रख कर सरकार की छवि खराब करने में लगे हुए है. मुख्यमंत्री के प्रयास में कोई कमी नहीं है किंतु अधिकारियों की मनमानी और लालफीताशाही के कारण यह कार्यक्रम ठीक से लागू नहीं हो पा रहा है, और कोरोना वायरस प्रदेश में धीमे-धीमे बढ़ता जा रहा है.


बता दें कि विधायक सुरेंद्र सिंह ने शुक्रवार को बैरिया में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि भाजपा के विधायक, मंत्री कोविड के शिकार हो रहे हैं. दो दो विधायक की मौत समुचित इलाज के अभाव में हो गई. जबकि केंद्र और प्रदेश में हमारी सरकार है. विधायक ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के बरेली जिले के नबाबगंज विधानसभा के विधायक केशर सिंह व लखनऊ पश्चिमी के विधायक सुरेश कुमार श्रीवास्तव तथा औरैया के विधायक रमेश चंद्र दिवाकर की मौत कोरोना से हो गई हैं. इनकी मौत की जिम्मेदारी से हम मुक्त नही हो सकते है. अगर हम लोग अपने विधायकों को कोरोना से नही बचा पा रहे हैं. तो जनता जनार्दन की क्या स्थिति होगी इसका अंदाजा आप लोग लगा सकते है.

साथ ही विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री ईमानदार के साथ साथ कर्मयोगी भी है. किंतु मुख्यमंत्री को अपने विधायकों व मंत्रियों से ज्यादा भरोसा अधिकारियों पर है, लेकिन सरकारी अधिकारी स्वार्थ में लिप्त है. उन्हें भाजपा की सरकार व प्रदेश की जनता से कोई मतलब नहीं है. भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह के बयान के बाद आम जनता अब योगी सरकार से जवाब मांग रही है कि यदि आपके विधायक ही आपके काम से संतुष्ट नहीं है, इसका मतलब आप मुख्यमंत्री के लायक नहीं है. नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए अपने पद से इस्तीफा दें. भाजपा में और भी बहुत काबिल लोग बैठे हैं मुख्यमंत्री का पद संभालने के लिए.