सेवानिवृत्त पीएसी जवान की कोरोना संक्रमण से ईलाज के दौरान मौत हो गई. मौत से गुस्साए उसकी बेटियों व परिजनों ने पंडित दीनदयाल कोविड केयर सेंटर में हंगामा खड़ा कर दिया. परिवार के लोगो ने ऑक्सीजन नही मिलने और इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए अस्पताल के डॉक्टरों और स्टाफ नर्स के साथ मारपीट की. वहीं मारपीट होता देख अस्पताल स्टाफ ने कमरों में बंद होकर गुस्साए लोगों से अपनी जान बचाई.

दरअसल क्वारसी थाना क्षेत्र के रहने वाले 2013 में पीएससी से रिटायरमेन्ट ले चुके दरोगा को कोरोना संक्रमण के चलते उनके परिवार के लोगो ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में इलाज के लिए शुक्रवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वहीं अब पीड़ित परिवार का आरोप है कि अस्पताल में उनको बिल्कुल भी ऑक्सीजन नही दी गई. जबकि उनकी हालत को देखते हुए आईसीयू में डॉक्टरों को भर्ती करना था. लेकिन डॉक्टरों ने उनको नॉर्मल वार्ड के अंदर रखा गया था. परिवार के लोग डॉक्टरों से कह-कहकर थक गए की पापा को ऑक्सीजन दे,दो पर इन लोगों के कहने के बाद भी उन्हें ऑक्सीजन नही दी गई.

वहीं म्रतक की बेटी ने कहा शुक्रवार को उसके पापा को पंडित दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। कोरोना संक्रमित थे. अस्पताल में टेस्ट कराया गया पर रिपोर्ट नही आई।लेकिन डॉ ने जब एक्सरे किया तो उससे पता चला कि पापा को कोविड है।जिसके बाद अपने पापा को इस अस्पताल में भर्ती कराने के लिए पूरा परिवार दिन भर घूमते रहे लेकिन भर्ती नही किया गया। तो फिर किसी तरीके से भाग दौड़ कर उनको इस अस्पताल में भर्ती भी करा दिया गया। भर्ती कराने के बाद सभी परिवार के लोग फोन पर उनका हालचाल पूछते रहते थे,