जहां देशभर में कोरोना ने हाहाकार मचा रखा है. रोजाना लाखों की तादाद में कोरोना केस सामने आ रहे है. जिसे देखते हुए देश और राज्य प्रशासन ने कई तरह पाबंदिया भी लग रखी है, जिनका पालन कराने के लिए पुलिस प्रशासन पूरी तरह से तत्पर है. लेकिन अराजकतत्व मानने को तैयार ही नहीं हैं. झारखंड में तो हद ही हो गई, जब सरायकेला इलाके के एक गांव में चल रहे मेले के आयोजन को रुकवाने गई पुलिस को ही ग्रामीणों ने लाठियों से पीट कर खदेड़ दिया.

खबरों के मुताबिक, पुलिस ने मेले की सूचना मिलने के बाद बीडीओ की मदद से आयोजन को रुकवाने का निर्णय लिया था. पुलिसकर्मियों के मुताबिक, कोरोना की दूसरी लहर को लेकर पाबंदियों के बावजूद सरायकेला में मेला चल रहा था, लेकिन जब उन्हें रोका गया तो पुलिसकर्मियों और स्थानीय प्रशासन के कर्मचारियों की पिटाई ग्रामीणों ने कर दी.

वहीं पुलिस ने बताया है कि उन्होंने ग्रामीणों को मेला खत्म करके घर जाने को लेकर मनाने की कोशिश की. लेकिन बातचीत बेकार रही तो पुलिसकर्मियों को खदेड़ने के लिए ग्रामीणों ने उन पर हमला कर दिया. इस घटना के वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि पुलिसकर्मी मेलास्थल पर अपनी जान बचाने को इधर-उधर भाग रहे हैं. इसमें कुछ लोगों को पुलिसकर्मियों पर पत्थर फेंकते देखा गया. जबकि कई ने पुलिसकर्मियों को लाठियों से पीटा. मेले में मौजूद तमाम ग्रामीणों ने मास्क भी नहीं लगा रखा था.

बता दें कि पुलिसकर्मियों को पीटने वाले ज्यादातर युव लड़के थे. पुलिस का कहना है कि ग्रामीणों के हमले में खंड विकास अधिकारी और पुलिस स्टेशन के प्रभारी को भी चोटें आई हैं. झारखंड में भी कोविड-19 के केस में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. गुरुवार से झारखंड में लॉकडाउन लगाया गया है. केंद्र, राज्य सरकार के कर्मचारियों के साथ निजी क्षेत्र के कर्मियों को इससे छूट दी गई है