देश भर मैं कोरोना के वजह से रोजाना एक लाख से अधिगक मामले आ रहे हैं जिसको लेकर कुछ राज्यों के द्वारा लॉकडाउन भी लागू किया गया है और उत्तर प्रदेश में भी यूपी सरकार ने आदेश दिए हैं कि कोरोना को लेकर एतिहाद बरता जाए और मास्क लगाकर ही घर से बाहर निकला जाए, लेकिन योगी सरकार के अधिकारी कोरोना को लेकर धज्जियां उड़ाते हुए दिखाई दे रहे हैं , खुद तो मास्क नहीं लगाए हैं ओर दूसरों को मास्क लगाने की सलाह दे रहे हैं.

उत्तर प्रदेश के इटावा में जिला प्रशासन लगातार जनता को कोरोना वायरस को लेकर तरह तरह से जागरूक कर रहा है. वहीं प्रशासन के द्वारा वाहनों पर लाउडस्पीकर लगाकर गांव गांव शहर शहर जनता से 2 गज की दूरी और मास्क है जरूरी की अपील कर रहा है. तो वहीं दूसरी ओर जनपद में लापरवाह प्रशासन के अधिकारी नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए दिखाई दे रहे हैं. एक और एक पुलिसकर्मी ऑटो में यात्रा कर रहा है और बिना मास्क लगाए बैठा हुआ है. वहीं दूसरी ओर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक एनएस तोमर है जिनके ऊपर पूरे जनपद की स्वास्थ्य व्यवस्था चल रही है, और वही नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं. दूसरों को मास्क लगाने की सलाह दे रहे हैं, लेकिन खुद बिना मास्क लगाए ऑफिस में मौजूद देख रहे हैं.

वही पुलिस के चौकीदारों को कोरोना से बचने के लिए मास्क दिए जा रहे हैं, लेकिन खुद पुलिस कर्मी बिना मास्क लगाए चौकीदारों को मास्क बांटते हुए दिखाई दे रहे हैं, अब ऐसे में सोचने वाली बात यह है कि जनता को अगर प्रशासन नियमों का पालन नहीं कराएगा और खुलेआम नियमों की धज्जियां उड़ेंगी तो जनता नियमों का पालन कैसे करेगी. इसीलिए जनपद में कोरोना के नए मामले सामने आ रहे हैं, और इन मामलों पर रोकथाम लगाने में प्रशासन लापरवाही बरतते हुआ दिखाई दे रहा है. इस लापरवाही में प्रशासन के साथ-साथ आम जनता भी शामिल है. .