देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार रात कोविड महामारी से निपटने के लिए केंद्र के शीर्ष अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की. यह बैठक वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये हुई. जहां इस बैठक में दवाओं, ऑक्सीजन, वेंटिलेटर और टीकाकरण से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई. वहीं पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने पिछले साल एक साथ मिलकर कोरोना वायरस को हराया था और भारत इसे फिर से समान सिद्धांतों, लेकिन तेज गति और समन्वय के साथ कर सकता है. पीएम मोदी ने यह बैठक ऐसे वक्त की, जब कई राज्यों की ओर से वैक्सीन की किल्लत की शिकायत की गई है. महाराष्ट्, छत्तीसगढ़ जैसे कई राज्यों ने कहा कि उन्हें पर्याप्त कोरोना वैक्सीन नहीं मिल पा रही है.

जहां पीएम ने इस बैठक में जोर देते हुए कहा कि परीक्षण, ट्रैकिंग और उपचार का कोई विकल्प नहीं है. प्रारंभिक परीक्षण और उचित ट्रैकिंग मृत्यु दर को कम करने के लिए महत्वपूर्ण है. उन्होंने यह भी कहा कि स्थानीय प्रशासन को लोगों की चिंताओं के प्रति सक्रिय और संवेदनशील होने की आवश्यकता है. पीएम ने निर्देश दिया कि महामारी से निपटने में राज्यों के साथ घनिष्ठ समन्वय सुनिश्चित किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि कोविड रोगियों के लिए अस्पताल के बेड की उपलब्धता को बढ़ाने के लिए सभी आवश्यक उपाय किए जाने चाहिए. प्रधानमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि अस्थायी अस्पतालों और क्वांरटीन सेंटरों के माध्यम से बेड की अतिरिक्त आपूर्ति सुनिश्चित की जाए.

प्रधानमंत्री ने निर्देश दिया कि चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति के मुद्दे पर अनुमोदित चिकित्सा ऑक्सीजन संयंत्रों की स्थापना में तेज़ी लाई जानी चाहिए. 162 PSA ऑक्सीजन संयंत्र 32 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में PM CARES से स्थापित किए जा रहे हैं. अधिकारियों ने बताया कि 1 लाख सिलेंडरों की खरीद की जा रही है और जल्द ही उन्हें राज्यों में आपूर्ति की जाएगी. वहीं अधिकारियों ने पीएम को जानकारी दी कि वे मेडिकल ऑक्सीजन की वर्तमान और भविष्य की आवश्यकता का आंकलन करने के लिए 12 उच्च बोझ वाले राज्यों के साथ निरंतर सम्पर्क में हैं. 30 अप्रैल तक 12 उच्च बोझ वाले राज्यों के लिए आपूर्ति मानचित्रण योजना भी शुरू की गई है. प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि महामारी को संभालने के लिए आवश्यक दवाओं और उपकरणों के उत्पादन के लिए आवश्यक ऑक्सीजन की आपूर्ति भी सुनिश्चित की जानी चाहिए.

इसके साथ पीएम मोदी ने वेंटिलेटर की उपलब्धता और आपूर्ति की स्थिति की भी समीक्षा की. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि एक वास्तविक समय की निगरानी प्रणाली बनाई गई है, और निर्देश दिया गया है कि संबंधित राज्य सरकारों को प्रणाली का लगातार उपयोग करने के लिए संवेदनशील होना चाहिए. टीकाकरण के मुद्दे पर प्रधानमंत्री ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे वैक्सीन के उत्पादन में वृद्धि के लिए सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के साथ-साथ पूरी राष्ट्रीय क्षमता का उपयोग करने के प्रयास करें. पीएम के साथ बैठक में कैबिनेट सचिव, पीएम के प्रमुख सचिव, केंद्रीय गृह सचिव, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव, फार्मा सचिव शामिल हुए डॉ वी के पॉल, नीती अयोग भी उपस्थित थे.

तो वहीं पीएम ने विभिन्न दवाओं की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए भारत के दवा उद्योग की पूरी क्षमता का उपयोग करने की आवश्यकता के बारे में बताया. उन्होंने रेमडेसिविर और अन्य दवाओं की आपूर्ति की स्थिति की समीक्षा की. प्रधानमंत्री को रेमडेसिविर की उपलब्धता के मुद्दे पर की गई कार्रवाइयों की जानकारी दी गई. सरकार के प्रयासों के माध्यम से, रेमडेसिविर के विनिर्माण के लिए क्षमता और उत्पादन वृद्धि मई में लगभग 74.10 लाख शीशी/महीना प्रदान करने के लिए तैयार की गई है, जबकि जनवरी-फरवरी में सामान्य उत्पादन का उत्पादन सिर्फ 27-29 लाख शीशियां प्रति महीने का है. आपूर्ति भी 11 अप्रैल को 67,900 शीशियों से बढ़कर 15 अप्रैल 2021 को 2,06,000 से अधिक शीशियों पर जा रही है, जो विशेष रूप से उच्च कैसलोएड और उच्च मांग वाले राज्यों पर केंद्रित है.