यूपी के मैनपुरी में साइबर सेल की टीम को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है. जहां साइबर सेल टीम ने प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर धोखाधड़ी करके बैंक अकाउंट से रुपये निकालने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है. इसमें खास बात यह है कि ये गिरोह जामताड़ा वेब सीरीज देख कर लोगों को ऑनलाइन ठगी का शिकार बना रहा था. साइबर सेल ने इस गिरोह के सरगना सहित गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

बता दें कि यह मामला मैनपुरी जिले के थाना करहल क्षेत्र का है. यहां के रहने वाले अलकेश कुमार ने पुलिस से शिकायत की थी, जिसमें उन्होंने बताया था कि उनके पास एक मोबाइल नंबर से कॉल आई कि प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम से आपको आवास आवंटित हुआ है और आपको बैंक से 253000 रुपये दिए जाएंगे. जहां उसके बाद गैंग के किसी सदस्य ने बैंक मैनेजर बन कर अलकेश को फोन किया और उसके मोबाइल पर एक ओटीपी भेजा गया जिसके बाद उस ओटीपी को बताने की बात कही गई. जैसे ही पीड़ित ने ओटीपी बताया वैसे ही उसके खाते से 35500 रुपये कट गए.

वहीं मैनपुरी पुलिस अधीक्षक ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए थाना करहल पर अज्ञात के खिलाफ दिनांक 28 मार्च को मामला दर्ज करा दिया. पुलिस अधीक्षक ने मैनपुरी की साइबर टीम को सक्रिय किया और तत्काल मामले के खुलासे के निर्देश दिए. जिसके बाद टीम ने इस मामले में गहनता से जांच पड़ताल की तो पता लगा कि पीड़ित के खाते से रुपये कटने के बाद पैसा जनपद झांसी की पंजाब नेशनल बैंक शाखा समथर में ट्रांसफर किया गया और उन्हीं रुपयों को तत्काल कानपुर के कई एटीएम से निकल लिया गया था.

इस जानकारी के बाद आखिरकार पुलिस ने फ्रॉड गैंग के सरगना सहित दो साथियों को गिरफ्तार कर लिया है. पकड़े गए सभी साइबर अपराधी हैं और जामताड़ा वेब सीरीज देख ऑनलाइन ठगी करने लगे थे कुछ ही समय में उन्होंने करोड़ों रुपयों की चल और अचल संपत्ति भी अर्जित कर ली थी.