दिल्ली में बढ़ते कोरोना मामलों के बीच आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कांफ्रेस कर देश की राजधानी में कोरोना के हालातों को लेकर बात की. केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में पिछले 10 से 15 दिन में बहुत तेजी से कोरोना बढ़ा है. वहीं केजरीवाल के अनुसार दिल्ली में यह चौथी लहर है, उन्होंने कहा इससे पहले हमने सभी लहरों का बहुत अच्छे से सामना किया है, और सब ठीक हो गया.

वहीं केजरीवाल ने ये भी बताया कि मार्च के मध्य तक 200 से भी कम मामले रोजाना आने शुरू हो गए थे. और कल के 24 घंटे की जो रिपोर्ट शाम को जारी होगी उसके मुताबिक पिछले 24 घंटे में 10732 मामले सामने आए हैं, और ये नवंबर के महीने से भी ज्यादा है, जोकि अब तक दिल्ली का पीक माना जा रहा था. वहीं उन्होंने कहा कि स्थिति बहुत चिंताजनक है, ​मैं स्थिति पर नजर रखे हुए हूं और जो करने की जरूरत है हम वो सब कर रहे हैं.

उन्होंने कहा हम लॉकडाउन नहीं लगाना चाहते हैं, मगर कल सरकार ने मजबूरी में कुछ पाबंदियों के आदेश दिए हैं. जैसे बसे अब 50% क्षमता के साथ चलेंगे मेट्रो में भी 50% क्षमता के साथ चलेंगे और बार और रेस्टोरेंट भी 50% क्षमता के साथ चलेंगे. साथ ही केजरीवाल ने बताया कि हम इस समय तीन स्तर पर काम कर रहे हैं. पहला, कैसे कोरोना को फैलने से रोका जाए, इसमें सरकार अकेले कुछ नहीं कर सकती आप लोगों का सहयोग चाहिए जैसे पहले आपने सहयोग किया. कोरोना के नियमों का पालन करना. मास्क पहने, देह से दूरी बनाए और हाथ धोते रहें. घर से बाहर तभी निकले जब बहुत जरूरी हो.

साथ ही उन्होंने बताया कि किसी तरह की बेड ऑक्सीजन या वेंटीलेटर की कमी नहीं होनी चाहिए उसका इंतजाम हमने किया है, नवंबर में जो सबसे ऊपर लहर गई थी वह 8500 हजार के की थी आज 10700 से ऊपर निकल गई है. उन्होंने कहा कल मैंने लोकनायक अस्पताल का जायजा लिया है. केजरीवाल के अनुसार कुछ लोग कह रहे हैं कि उनको बेड नहीं मिल रहा उनसे मैं कहूंगा कि वह कोरोना एप देखें, कहां बेड उपलब्ध हैं वही जाएं. वहीं सीएम ने यह भी कहा कि मैंने केंद्र सरकार से अपील की है कि वैक्सीनेशन के ऊपर जितने प्रतिबंध लगा रखे हैं वह सब हटा लेना चाहिए. हमारा स्टाफ तो घर-घर जाकर टीका लगाने को तैयार है