अलीगढ़ में ट्रैफिक पुलिस की कई बार ऐसी कारस्तानी सामने आती है जिससे कि उसका मजाक बन जाता है. पिछले दिनों में कई ऐसी घटना हुई जहां ट्रैफिक पुलिस ने हेलमेट न पहनने पर चार पहिया वाहनों का चालान कर दिया. ऐसा ही एक ताजा मामला अलीगढ़ के बेसिक शिक्षा अधिकारी के सामने आया जब उनके कार्यालय से अटैच एक कार का ट्रैफिक पुलिस ने चालान कर दिया और कारण बताया कि ड्राइवर हेलमेट पहनकर गाड़ी नहीं चला रहा था. पूरे मामले पर एसपी ट्रैफिक से बात की गई तो उन्होंने बजाय अपने विभाग की गलती मानने के ऐसा तर्क दिया जो खुद उन्हीं पर सवाल खड़े करता है.

दरअसल अलीगढ़ के बेसिक शिक्षा अधिकारी लक्ष्मी कांत पांडे के कार्यालय से एक बोलेरो कार अटैच है. जिस बोलेरो कर से बेसिक शिक्षा अधिकारी जगह-जगह अपने कार्यालय से सरकारी कार्य के लिए जाते हैं. उस बोलेरो कार का चालान ट्रैफिक पुलिस की तरफ से कर दिया गया और कार का चालान काटने का कारण बताया कि जो कार ड्राइवर था उसने कार में हेलमेट नही पहना था.

ट्रैफिक पुलिस द्वारा कार का चालान काटे जाने पर जब इस मसले पर बेसिक शिक्षा अधिकारी लक्ष्मी कांत पांडे से बात की गई तो बीएसए ने कहा गाड़ी का ड्राइवर द्वारा बताया गया कि उनकी गाड़ी का एक चालान कटा है. जिस चालान में ड्राइवर द्वारा गाड़ी चलाते हुए हेलमेट नहीं होना बताया गया है. संभवत कोई तकनीकी दिक्कत हो सकती है. जिसको अपने स्तर से भी दिखवाया जा रहा है. बोलेरो कार है जो बीएसए कार्यालय से अटैच है. इसका चालान हुआ है. इसको दिखवा रहे हैं कि ऐसा कैसे चालान हुआ है.

अलीगढ़ के एसपी ट्रैफिक सतीश चंद्र ने कहा की इनके यहां मैनुअल चालान बंद हो गए हैं और ई- चालान काटे जा रहे हैं. तो वही ट्रैफिक पुलिस फोटो खींचकर चालान करते हैं. जिसमें बहुत से लोगों ने चालान कटने से बचने के लिए अलीगढ़ में बहुत सारे नंबर प्लेट में तब्दीली कर ली गई है. उसकी वजह से गाड़ी का चालान किसी और का होना चाहिए लेकिन चालान किसी और का हो जाता है. उसी चालान का यह चालान एक परिणाम है. जो किसी कार का चालान हुआ है. जो चालान का नम्बर एक मोटर साइकिल में पंजीकृत हैं. वही हमारे पास इस तरह के जो भी चालान आते हैं. उनके एप्लीकेशन लेकर रद्द कर देते है.