शिवसेना नेता संजय राउत ने मुंबई पुलिस आयुक्त परमवीर सिंह के तबादले के पीछे दबाव होने से इनकार करते हुए BJP नेता देवेंद्र फडणवीस को चुनौती दी है. राउत ने कहा है कि अगर उनके पास गिरफ्तार पुलिस अधिकारी सचिन वज़े के कथित राजनीतिक संरक्षकों के बारे में सबूत हैं तो उनका नाम बताएं. राउत ने कहा कि फडणवीस को ऐसा कोई काम नहीं करना चाहिए जिससे मुंबई हतोत्साहित हो.

साथ ही संजय राउत ने कहा, अगर विपक्ष सोचता है कि यह तबादला किसी दबाव में किया गया तो वह गलत है. उद्धव ठाकरे सरकार ने किसी दबाव में तबादला नहीं किया है. यह हमारी नैतिक जिम्मेदारी है कि जब तक जांच जारी है, तब तक यह तबादला किया जाना चाहिए.

बता दें कि इससे पहले फडणवीस ने कहा था कि सिंह और वजे ‘छोटे आदमी‘ हैं और मामले को केवल उन्हें जिम्मेदार ठहराकर सुलझाया नहीं जा सकता. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा था, कौन है इसके पीछे? उसकी जांच होनी चाहिए. राजनीतिक आका जिन्होंने सचिन वजे को निर्देशित किया, उनका पता लगाया जाना चाहिए.

उन्होंने ठाणे के कारोबारी मनसुख हिरेन की हत्या होने की आशंका जताई और आरोप लगाया कि वजे के कई शिवसेना नेताओं से गहरे संबंध थे. इस पर राउत ने कहा, ‘‘अगर आपके पास सबूत हैं तो उन लोगों का नाम बताएं.” फडणवीस पर निशाना साधते हुए राउत ने कहा कि भाजपा नेता अगले साढ़े तीन साल महाविकास अघाडी सरकार के बचे कार्यकाल के पूरा होने तक खुद को बनाए रखने के लिए मुद्दे उठाते रहेंगे.