भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के सभी ग्राहकों के पास ग्रीन पिन की सुविधा है. जिसके जरिये नया एटीएम पिन बनाने या वर्तमान पिन को और भी आसान बनाया जा सकता है. वो इस लिए कि सभी निकासी, ऑनलाइन लेनदेन, और पीओएस लेनदेन सिर्फ 4-अंकों के एसबीआई पिन डालने के बाद किए जाते हैं, सभी एसबीआई खाताधारकों को अनऑथराइज लेनदेन से सुरक्षित रखा जाता है. वर्तमान और नए एसबीआई खाताधारकों के पास कुछ ही सेकंड में एसबीआई एटीएम पिन जनरेट करने के कई विकल्प हैं.

बता दें कि सी पद्धति को इस्तेमाल करके, खाताधारक एसबीआई क्रेडिट कार्ड के लिए भी पिन जनरेट कर सकते हैं. भारतीय स्टेट बैंक ने अपने ग्राहकों के लिए एसबीआई एटीएम पिन जनरेट प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए ग्रीन पिन सुविधा शुरू की. खाताधारक एसबीआई ग्रीन पिन सुविधा का उपयोग करके अपने स्वयं के एसबीआई एटीएम पिन जनरेट कर सकते हैं.

पिन जनरेट करने का तरीका है, आप एसएमएस के जरिये अपना एसबीआई एटीएम पिन जनरेट कर सकते हैं. अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से फॉर्मेट पिन (XXXX) (YYYY) के साथ 567676 पर एसएमएस भेजें. एसबीआई एटीएम कार्ड के अंतिम चार अंक XXXX हैं, जबकि एसबीआई खाता संख्या के अंतिम चार अंक YYYY हैं. एसएमएस भेजे जाने के बाद खाताधारक के पास एक ओटीपी प्राप्त होगा. इस ओटीपी का दो दिनों के भीतर निकटतम एसबीआई एटीएम में एसबीआई पिन बनाने के लिए उपयोग करना होगा.

जिसके लिए सबसे पहले अपने निकटतम एसबीआई एटीएम पर जाएं और पिन जनरेशन विकल्प चुनें. अब अपना 11 अंकों का एसबीआई खाता नंबर और एसबीआई के साथ अपना रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर इंटर करें. अब ‘Confirm’ पर टैप करें. इसके बाद स्क्रीन एसबीआई ग्रीन प्रोजेक्ट में शामिल होने के लिए खाताधारक को धन्यवाद देने वाली नोटिफिकेशन डिस्प्ले होगी. एसबीआई पिन सफल जनरेशन के बाद, एसबीआई एटीएम एक कंफर्मेशन मैसेज दिखाएगा. उसके बाद, खाता धारक के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी भेजा जाएगा, जो दो दिनों के लिए वैलिड होगा. दो दिनों के भीतर किसी भी एसबीआई एटीएम पर जाएं, ‘Banking>PIN Change’ चुनें और रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर प्राप्त ओटीपी इंटर करें जब एटीएम आपको एटीएम पिन इंटर करने के लिए प्रेरित करता है।. अब एसबीआई एटीएम कार्ड पिन को सफलतापूर्वक अपडेट करने के लिए आगे के स्टेप्स को पूरा करें.