मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर कार में विस्फोटक मिलने के मामले में अब नया मोड़ तब आया जब सोमवार को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जांच की जिम्मेदारी NIA को सौंप दी. वहीं केंद्र के इस कदम पर महाराष्ट्र सरकार ने सवाल उठाए हैं.

जिसके बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि एनआईए को जांच सौंपना महाराष्ट्र सरकार की छवि बिगाड़ने के लिए किया जा रहा है. उद्धव ठाकरे ने कहा, ”राज्य के गृहमंत्री ने ये केस ATS को दिया है, लेकिन अब NIA को ये केस मिल गया जो दिखाता है कि विपक्ष कानून व्यवस्था का सवाल खड़ाकर महाराष्ट्र की छवि बिगाड़ना चाहता है. जिस तरह से उन्होंने ये केस अपने हाथ में लिया है उससे लगता है कि मामले में कुछ गड़बड़ है.

बता दें कि स्कॉर्पियों मामले में इस सियासी रस्साकशी के बीच ATS ने एक ताजा खुलासा किया है. सीसीटीवी की जांच के बाद ATS ने बताया कि कार का ड्राइवर दोबारा उस जगह पर आया था. हालांकि पीपीई किट पहने होने के कारण उसकी पहचान नहीं हो सकी थी. पूरे केस में नया मोड़ तब आ गया जब कार के मालिक मनसुख का शव संदिग्ध परिस्थितियों में दो दिन पहले बरामद हुआ. इस मामले में एटीएस ने अज्ञात शख्स के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया है.