जहां पूरा विश्व अभी भी कोरोना महामारी से जूझ रहा है, वहीं जिस देश की ये देन है वो अब एक कदम और आगे बढ़ गया हैं. जी हां चीन अब अपनी डिजिटल करेंसी लाने जा रहा है. इस राष्ट्रीय डिजिटल करेंसी पर वहां की सरकार का पूरा कंट्रोल होगा. उसकी ये नेशनल डिजिटल करेंसी दुनिया की बाकी डिजिटल करेंसी से कई मायनों में अलग होगी. चीन के सेंट्रल बैंक ने पहले ही डिजिटल करेंसी eCNY की टेस्टिंग 4 शहरों में शुरू कर दी थी. अब इसकी टेस्टिंग बीजिंग, शंघाई जैसे बड़े शहरों में की जाएगी.

बता दें कि न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक बैंक ऑफ इंटरनेशनल सेटलमेंट्स ने बताया है कि पिछले एक साल में करीब 60 देशों ने नेशनल डिजिटल करेंसी से जुड़े प्रयोग शुरू किए हैं . चीन सरकार ने अभी यह नहीं बताया है कि वो eCNY को राष्ट्रीय स्तर पर कब लॉन्च करेंगे लेकिन कुछ अधिकारियों का कहना है कै कि 2022 के ओलंपिक में विदेशी सैलानियों के लिए इसके इस्तेमाल को इजाजत दी जा सकती है.

बताया जा रहा है कि eCNY में बिटकॉइन के कुछ तकनीकों का इस्तेमाल होगा लेकिन यह ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर काम नहीं करेगी. eCNY डिजिटल करेंसी में एक तय वक्त तक ही करेंसी का इस्तेमाल कर सकते हैं नहीं तो ये लैप्स हो जाती है. यूजर्स का कहना है कि इसका इस्तेमाल बाकी चीनी डिजिटल पेमेंट जैसा ही है. लोगों को इस पर स्विच करने में कोई दिक्कत नहीं आएगी और आसानी से राष्ट्रीय स्तर पर लागू किया जा सकेगा.

वहीं विशेषज्ञों का मानना है कि चीन की नेशनल डिजिटल करेंसी आने के बाद युआन को डॉलर को टक्कर देने में आसानी होगी. ऐसा इसलिए होगा कि डिजिटल करेंसी इंटरनेशनल बाजार में तेजी से काम कर पाएगी. लेकिन चीनी अधिकारियों का कहना है कि ऐसा करने में अभी काफी बदलाव करने होंगे.