अलीगढ़ के थाना अकराबाद के गांव क्षेत्र अंतर्गत अपने घर से खेतों पर चारा लेने गई नाबालिग दलित किशोरी की हत्या करने के बाद उसके शव को खेत में फेंक दिया गया. किशोरी का शव खेत में मिलने की सूचना मिलने पर अलीगढ़ एसएसपी भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे. जिसके बाद पुलिस ने किशोरी के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. तो वही घटना का खुलासा करने के लिए एसएसपी द्वारा पुलिस की 5 टीमें गठित की गई हैं.

बता दें कि अलीगढ़ के अकराबाद थाना क्षेत्र के एक गांव में पशुओं को चारा लेने गई किशोरी का शव जंगल में मिलने से गांव में सनसनी फैल गई. 17 वर्षीय नंदनी पुत्री बबलू निवासी जयगंज अलीगढ़ अपनी ननिहाल के गांव किवलास अपनी नानी कांति देवी पत्नी स्वर्गीय शंकर पाल के यहां पिछले लगभग 10 वर्ष से रहती थी. रविवार की दोपहर वह अपने पशुओं को चारा लेने के लिए जंगल गई थी.

जहां से वह घर वापस नहीं आई जिसे देख परिजनों में हलचल मच गई और ग्रामीणों के साथ किशोरी को तलाश करने के लिए जंगल में निकल पड़े. तालाश के बाद किशोरी का शव राजवीर के खेत में पड़ा मिला. ग्रामीणों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी. सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया है. किशोरी की मौत पर परिजनों में कोहराम मच गया. सूचना पर तमाम पुलिस के आला अधिकारी पहुंचे जहां उन्होंने घटना का जायजा लेकर मामले में 5 टीमें गठित कर दी है. संभावना है कि किशोरी की दुष्कर्म के बाद हत्या की गई हो लेकिन ये पोस्टमार्टम के बाद ही पता चलेगा.

वहीं एसएसपी मुनिराज जी ने बताया कि अलीगढ़ में अकराबाद क्षेत्र में किवलास गांव में पुलिस को सूचना मिली कि एक लड़की का शव खेत में पड़ा हुआ है. मौके पर पुलिस आई और जांच में पता चला कि लड़की करीब 10, 11 बजे करीब घर से गई थी और वापस 4:00 बजे तक नहीं आई तो गांव वालों ने तलाश किया, और बाद में उसकी लाश यहां पर मिली. उसके बाद पुलिस को सूचना दी गई.