केंद्रीय निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को पांच राज्यों – पश्चिम, बंगाल, तमिलनाडु, केरल और पुदुच्चेरी में विधानसभा चुनावों की तारीख की घोषणा कर दी है. चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में आठ चरणों में तथा असम में तीन चरणों में मतदान करवाने का फैसला किया है. शेष तीनों राज्यों में मतदान की प्रक्रिया एक ही चरण में पूरी हो जाएगी. पांचों राज्यों में मतदान 27 मार्च से शुरू होगा, सभी राज्यों में चुनाव परिणाम एक साथ 2 मई को घोषित किए जाएंगे.

पांच राज्यों की कुल 824 विधानसभा सीटों पर मतदान डाले जाएंगे। 18.68 करोड़ मतदाता तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, केरल, असम और पुडुचेरी में 2.7 लाख मतदान केंद्रों पर वोट डालेंगे. कोरोना के कारण मतदान का समय एक घंटा बढ़ाया गया है. सभी चुनावी अधिकारियों का कोरोना टीकाकरण होगा. चुनाव के दौरान पर्याप्त केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) की तैनाती सुनिश्चित की जाएगी. सभी महत्वपूर्ण, संवेदनशील मतदान केंद्रों की पहचान की गई है और पर्याप्त संख्या में सीएपीएफ की तैनाती की जाएगी. चुनाव के दौरान कोरोना प्रोटोकॉल का पालन होगा.

पश्चिम बंगाल की कुल 294 सीटों पर कुल आठ चरणों में मतदान होगा. पहले चरण में 30 सीटों पर 27 मार्च को, दूसरे चरण में 30 सीटों पर 1 अप्रैल को, तीसरे चरण में 31 सीटों पर 6 अप्रैल को, चौथे चरण में 44 सीटों पर 10 अप्रैल को, पांचवें चरण में 45 सीटों पर 17 अप्रैल को, छठे चरण में 43 सीटों पर 22 अप्रैल को, सातवें चरण में 36 सीटों पर 26 अप्रैल को तथा आठवें चरण में 35 सीटों पर 29 अप्रैल को मतदान करवाया जाएगा.

वहीं असम की कुल 126 सीटों पर कुल तीन चरणों में मतदान होगा. पहले चरण में 47 सीटों पर 27 मार्च को, दूसरे चरण में 39 सीटों पर 1 अप्रैल को तथा तीसरे चरण में 40 सीटों पर 6 अप्रैल को मतदान करवाया जाएगा. तो वहीं तमिलनाडु में सभी 234 विधानसभा सीटों पर एक ही चरण में 6 अप्रैल को मतदान करवाया जाएगा. जबकि केरल में सभी 140 विधानसभा सीटों पर एक ही चरण में 6 अप्रैल को मतदान करवाया जाएगा, और पुदुच्चेरी में सभी 30 विधानसभा सीटों पर एक ही चरण में 6 अप्रैल को मतदान करवाया जाएगा.