पुदुच्‍चेरी में गुरुवार को राष्‍ट्रपति शासन लागू कर दिया गया. बता दें कि BJP और उसके सहयोगी दल की ओर से सरकार बनाने का दावा पेश नहीं करने के बाद केंद्रीय कैबिनेट ने बुधवार को पुदुच्‍चेरी में राष्‍ट्रपति शासन की सिफारिश की थी. वहीं पुदुच्चेरी में नारायणसामी की कांग्रेस सरकार ने बहुमत खो दिया है.

हालांकि पुदुच्‍चेरी सोमवार को विश्वास मत परीक्षण होना था लेकिन मुख्यमंत्री नारायणसामी ने अपने पद से इस्तीफ दे दिया था. बीजेपी व उनके सहयोगी दलों की ओ से सरकार बनाने का दावा पेश नहीं किए जाने के बाद लेफ्टिनेंट गवर्नर तमिलसाई सुंदरराजन की ओर से राष्ट्रपति शासन की सिफारिश की गई थी.

आपको बता दें कि पिछले हफ्ते कई विधायकों के इस्तीफा देने के बाद कांग्रेस की सरकार संकट में आ गई थी. रविवार को भी दो विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद वी नारायणसामी के पास बस 11 विधायकों का साथ रह गया था, बल्कि विपक्षी दलों के पास कुल 14 विधायक थे. कांग्रेस के विधायक के. लक्ष्मीनारायणन और द्रमुक के विधायक वेंकटेशन के रविवार को इस्तीफा देने के बाद 33 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस-द्रमुक गठबंधन के विधायकों की संख्या घटकर 11 हो गई है.


जबकि विपक्षी दलों के 14 विधायक थे. सोमवार को सीएम नारायणसामी ने इस्‍तीफा दे दिया, बाद में उन्‍होंने बीजेपी और एनआर कांग्रेस पर उनकी सरकार को गिराने का षड्यंत्र रचने का आरोप लगाया था.