अलीगढ़ के बरला थाना क्षेत्र में 7 दिन पूर्व हुए बच्चे के अपहरण और हत्या के मामले का आज पुलिस ने खुलासा कर दिया है. 13 फरवरी को थाना बरला में 5 वर्षीय आदित्य के अपहरण का मामला दर्ज कराया गया था. 2 दिन बाद आदित्य का शव पास ही के दूसरे गांव के एक खेत में ट्यूबल की कुंडी में बरामद हुआ था. पुलिस ने मृतका के पिता नीटू की तहरीर पर थाना बरला में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर मामले में दो नाबालिग आरोपियो को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा किया.

बता दें कि पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर 16 वर्षीय दो नाबालिग अरुण और सचिन को इस मामले में गिरफ्तार किया. पूछताछ हुई तो आरोपियों ने बताया कि मृतक आदित्य का पिता नीटू सचिन व अरुण से अपने ही खेतो पर काम कराता और मजदूरी मे केवल 30 या 50 रुपये देता. जिसको लेकर दोनो का नीटू से विवाद हो गया था. जिसके बाद दोनो ने उससे बदला लेने की ठानी.

दोनो आरोपी मोबाइल पर सीआईडी एवं क्राइम पेट्रोल सीरियल देखते थे. 10-12 दिन से नीटू के पुत्र आदित्य या कृष्णकांत दोनो में से एक की हत्या की योजना बना रहे थे. घटना के दिन 13 फरवरी को घना कोहरा था. इसी का मौका पाकर सचिन नीटू के पुत्र आदित्य को गांव के बाहर खेलने के लिए ले गया. पास में खड़ी सरसों के खेत में अरुण ने सचिन के साथ मिलकर आदित्य की गला दबाकर हत्या कर दी. अगले दिन जब गांव में बच्चे के अपहरण का हल्ला हुआ तो दोनो युवको ने उस शव को ले जाकर नजदीक के दूसरे गांव के खेत में ट्यूबवेल की कुंडी में डाल दिया.

वहीं इस मामले में ग्रामीण पुलिस अधीक्षक सुभम पटेल द्वारा बताया गया कि 13 फरवरी को 5 वर्षीय बच्चे के अपहरण का थाने पर मुकदमा दर्ज कराया गया. कुछ दिनों बाद ट्यूबेल की कुंडी के अंदर बच्चे की डेडबॉडी पड़ी हुई पुलिस को मिली. पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला की म्रतक के पिता के खेतो पर दो लड़के काम करते थे. बच्चे के पिता से दोनो लड़को का मनमुटाव था. मनमुटाव के चलते दोनो लड़को ने खेतो पर ले जाकर आदित्य की गला दबाकर हत्या करते हुए डेडबॉडी को छुपा दिया.