पुलिस फोर्स की मौजूदगी मे दंबग लोगो द्वारा गांव में धारदार हथियार लहराये जाने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. जिस वीडियो में कुछ लोग पुलिस के सामने गांव के अन्दर अवैध धारदार हथियारों के बल पर खौफ और दहशत का माहौल फैलाकर गांव के मौजूदा लोगों को हथियारों के दम पर डराया और धमकाया गया.

बता दें कि गांव मिर्जा चांदपुर के नसरुद्दीन के बेटे अरमान और सोनू का आगरा के मलपुरा इलाके के बुद्धा का नगला धनौली के नूर मोहम्मद की बेटी परवीन और खुर्शीद के साथ विवाह हुआ था. निकाह के कुछ महीने बाद नूर मोहम्मद की बेटी खुर्शीद ने आगरा के थाना मलपुरा में अपने पति सहित सुसरालीजन के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया था, जिस मुकदमे की जाँच करने के लिए आगरा पुलिस गांव पहुंची थी.

जहा वादी पक्ष के लोगों ने पुलिस की मौजूदगी में धारदार हथियार गांव में लहराये. धारदार हथियारों को लहराता देख गांव मे दहशत का माहौल बन गया. जिसके बाद धारदार हथियारो से लैस लोगों ने घरो में घुसकर धारदार हथियारो से हमला कर दिया.

रविवार के दिन आगरा पुलिस के महिला-पुरुष दारोगा और सिपाही पहले थाना अकराबाद पहुंचे और उसके बाद फिर वादी पक्ष को लेकर प्रति पक्ष के गांव में मिर्जा चांदपुर पहुंचे. ग्रामीणो का आरोप है कि वादी पक्ष का एक युवक पुलिस की मौजूदगी में गाली गलौज करते हुए प्रतिवादी पक्ष को धारदार हथियार लहराकर धमकाने लगा. जिसके बाद प्रतिवादी के घर मे घुसकर महिलाओं से अभद्रता करते हुए नसरुद्दीन पर धारदार हथियार से हमला करते हुए उसको घायल कर दिया. नसरुद्दीन पर हमला होते देख ग्रामीणों ने विरोध करना शुरू कर दिया, जिसके बाद वादी पक्ष को गांव से ग्रामीणो ने भगा दियाय