मंगल ग्रह पर इंसानी शहर बसाने का सपना देखने वाले एलन मस्‍क ने कहा है क‍ि ब्रह्मांड में कुछ ऐसा है जो हर चीज को खत्‍म करने में लगा हुआ है और अगला नंबर हमारा भी हो सकता है. उन्‍होंने ग्रेट फिल्टर थियोरी का भी समर्थन क‍िया.

बता दें कि सबसे अमीर अरबपति और स्‍पेसएक्‍स कंपनी के मालिक एलन मस्‍क ने अंतरिक्ष को लेकर एक ऐसा दावा किया है कि ब्रह्मांड में कुछ ऐसा है जो हर चीज को तबाह कर रहा है. एलन मस्‍क ने आशा जताई कि उनकी कंपनी एक दिन 1000 स्‍पेस शिप पृथ्‍वी से रवाना करेगी.  जिसमें प्रत्‍येक पर 100 टन के उपकरण और 100 इंसान मौजूद होंगे. ये लोग मंगल ग्रह पर स्‍थायी बस्तियां बसाने के इरादे से जाएंगे.

जबकि मस्‍क ने इससे पहले भी योजना बनाई थी कि वर्ष 2050 तक अंतर‍िक्ष में 10 लाख लोग रहने लगेंगे लेकिन बाद में उन्‍होंने स्‍वीकार किया था कि इस लक्ष्‍य को पूरा करने में अभी  दिक्‍कत है. उन्‍होंने कहा कि उस समय परीक्षा की घड़ी होगी जब पृथ्‍वी से किसी वजह से स्‍पेस शिप आना बंद कर देंगे. उन्‍होंने कहा कि अगर ऐसा हुआ तो इसका मतलब है कि हम एक सुरक्षित स्‍थान पर नहीं हैं

वहीं स्‍पेसएक्‍स के सीईओ ने ग्रेट फ‍िल्‍टर सिद्धांत का हवाला दिया जिसे प्रोफेसर रॉबिन हैंसन ने दिया था. प्रोफेसर रॉबिन ने कहा था कि अंतरिक्ष में कुछ ऐसा है जो पूरे अंतरिक्ष में जीवन के विस्‍तार से पहले ही उसे खत्‍म कर रहा है. प्रोफेसर रॉबिन ने वर्ष 2014 में कहा था, ‘य‍ह अंतरिक्ष बहुत विस्‍तृत, अंधेरे से भरा, ठंडा, खाली और मरा हुआ है. हम जहां भी देखते हैं, वह पूरी तरह से मरा हुआ है.

साथ ही प्रोफेसर रॉबिन ने कहा कि अगर आप एलियन्‍स को देखते हैं तो आप उनसे डर सकते हैं, आपको यह सोचकर आश्‍चर्य होगा कि वे आपके साथ कैसा व्‍यवहार करेंगे. आपको और ज्‍यादा डरना चाहिए जब कोई एलियन नहीं दिखाई दे, आपको कुछ भी दिखाई नहीं दे.’ इस सिद्धांत के आधार प्रोफेसर रॉबिन ने कहा कि अंतरिक्ष में कुछ ऐसा है जो हर चीज को खत्‍म कर रहा है और हम उसके अगले शिकार हो सकते हैं.