उत्तर प्रदेश के जिला कासगंज के थाना सिढ़पुरा इलाके के गांव नंगला धीमर मे शराब मफियाओ और पुलिस के बीच हुए घटनाक्रम में देवेंद्र नाम के सिपाही की मौत हो गई. तो वही गंभीर रूप से घायल हुऐ दरोगा का इलाज अलीगढ़ के जे एन मेडिकल कॉलेज मे लगातार जारी है. तो वही पुलिस ने मुख्य आरोपी के भाई को मुठभेड़ के दौरान मार गिराया. पुलिस मुठभेड़ मे मारे गए बदमाश को लेकर राजनीति भी शुरू हो गई है. जिसमे पूर्व विधायक जमीर उल्ला ने पुलिस एनकाउंटर पर सवाल उठाये है. पूर्व विधायक हाजी जमीर उल्लाह ने चंबल के डकैतों से यूपी पुलिस की तुलना की है ,

अलीगढ़ के पूर्व विधायक हाजी जमीर उल्लाह ने कहा कि पुलिसकर्मी की हत्या हुई उसका बहुत अफसोस है. साथ ही पूरे ही प्रदेश के हमारे लोगों को अफसोस. लेकिन उसके बाद जो घटना हुई वह बहुत ही बदतमीजी वाली है. खून का बदला खून अगर पुलिस करेगी और सरकार करेगी तो बचेगा क्या. ना प्रदेश संभाल रहा ना देश संभल रहा है.

दिल्ली के अंदर आंदोलन चल रहा है. प्रदेश के अंदर कोई कानून व्यवस्था नाम की चीज नहीं है। हमारा तो यह कहना है कि योगी जी को फौरन इस्तीफा देकर मठ चले जाना चाहिए. वह अपना मठ चलाए. उनके बस की बात नही है. यह बिल्कुल चंबल राज हो गया है. पहले डाकू यह काम किया करते थे. हत्या का बदला हत्या अब पुलिस करेगी तो डाकू और पुलिस में क्या फर्क रह गया. कानून के रखवाले ही अगर कानून हाथ मे लेंगे तो बचेगा क्या. पहले जब यहा पर एनकाउंटर हुआ था वह भी फेक एनकाउंटर हुआ था मैंने उसमे भी आवाज उठाई थी.

हमारा कहना यह है कि पुलिस अपना काम कानून के दायरे मे करे. रात को घटना हुई है वह बहुत ही शर्मनाक है. और में आप लोगों के जरिए इस पुलिस वाले की हत्या हुई है उसके परिवार को अपनी तरफ से यही चाहूंगा कि ऊपर वाला उनके परिवार को शांति दे और जो किसानों के साथ हुआ है उसका मे समझता हूं उसकी माफी नहीं है. यह एनकाउंटर उसका किया गया है जिसकी कोई गलती नही है. अगर गलती किसी ने करी है तो सजा आप उसे दीजिए उसके भाई को थोड़ी देंगे. यह बिल्कुल जंगलराज है.