अमेरिकी पॉप स्टार रिहाना की तरफ से किसान आंदोलन को लेकर किए गए ट्वीट के बाद दुनियाभर में उसको लेकर चर्चा है, तो वहीं इसके खिलाफ सचिन तेंदुलकर, लता मंगेशकर और अक्षय कुमार समेत कई हस्तियों की तरफ से ट्वीट पर महाराष्ट्र सरकार ने जांच के आदेश दिए है. महाराष्ट्र सरकार में गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि इस बात की जांच की जाएगी कि कहीं उन बड़ी हस्तियों के ऊपर ट्वीट को लेकर बीजेपी की तरफ से कहीं कोई दबाव तो नहीं था.

बता दें कि महाराष्ट्र सरकार की तरफ से रिहाना के ट्वीट के जवाब में पहले विदेश मंत्रालय की तरफ से ट्वीट और फिर उसी हैश टैग का इस्तेमाल कर देश के अन्य हस्तियों की तरफ से ट्वीट के जांच के आदेश को लेकर बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उद्धव सरकार पर बड़ा हमला किया है. जेपी नड्डा ने सोमवार को कहा- महाराष्ट्र में महाराष्ट्र विकास अघाड़ी का शासन करने का एक यूनिक मॉडल है.  विदेशों से अराजकता की बात बताकर भारत को गलत तरीके से पेश किया जा रहा है दूसरी तरफ जो देशभक्त राष्ट्र के लिए खड़ा होते हैं उन्हें परेशान किया जाता है. यह फैसला करना मुश्किल है कि  ज्यादा दोषपूर्ण क्या है. उनकी प्राथमिकताएं या फिर उनकी मानसिकता?

वहीं इससे पहले कांग्रेस नेता सचिन सावंत ने कहा कि रिहाना के किसान प्रदर्शन के ट्वीट के जवाब में विदेश मंत्रालय के जवाब के बाद कई ट्विट्स किए गए. क्या वह ट्वीट उनकी खुद की राय थी. अगर ऐसा था तो ठीक है लेकिन इसमें शक है कि बीजेपी इसके पीछे हो सकती है. गृह मंत्री अनिल देशमुख से बात की है. उन्हें इंटेलिजेंस डिपार्टमेंट को जांच के आदेश दिए हैं.

बता दें कि रिहाना ने किसान आंदोलन की एक खबर के साथ यह लिखा था कि हम इस पर चर्चा क्यों नहीं करते. इसके बाद इसको लेकर विदेशों से कई प्रतिक्रियाएं आई. इसके जवाब में विदेश मंत्रालय की तरफ से ट्वीट कर इसे भारत के खिलाफ एक प्रोपगेंडा करार दिया था.