भारत के आक्रामक विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत ने कहा है कि उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने की घटना के बाद बचाव कार्यों के लिए वह अपनी मैच फीस दान देंगे, पंत ने ये भी कहा है कि वे अन्य लोगों से भी समर्थन की मांग करेंगे और उन जवानों की मदद करेंगे, जिन्होंने रविवार को चमोली में आई तबाही से सैकड़ों लोगों को बचाया है. ऋषभ पंत जो वर्तमान में चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में खेल रहे हैं, उन्होंने इस आपदा में जान गंवाने पर दुख व्यक्त किया.

बता दें कि रिषभ पंत ने ट्वीट करते हुए लिखा है, “उत्तराखंड में जान गंवाने वालों के लिए गहरा दुख है. बचाव प्रयास करने वालों के लिए मैं मैच फीस का दान करना चाहूंगा और अधिक लोगों से मदद करने का आग्रह करूंगा. रिषभ पंत मौजूदा टेस्ट मैच के तीसरे दिन भारतीय सरजमीं पर अपने पहले शतक से चूक गए. हालांकि, उन्होंने 91 रनों की तेज पारी खेलकर टीम को मुश्किल से निकालने का प्रयास किया.

वहीं पंत ने आपने दूसरे ट्वीट में कहा है कि उत्तराखंड में आई बाढ़ से प्रभावित लोगों के परिवारों के लिए मेरी हार्दिक संवेदना और प्रार्थना है. मुझे उम्मीद है कि बचाव अभियान चल रहा है जो मुसीबत में है उनकी मदद की जा रही है. भारतीय क्रिकेटर को एक टेस्ट मैच के लिए 15 लाख रुपये मैच फीस के तौर पर मिलते हैं. ऐसे में 15 लाख रुपये की रकम को रिषभ पंत ने डोनेट करने का फैसला किया है.

दरसअल रविवार को उत्तराखंड के चमोली जिले के तपोवन-रेनी क्षेत्र में एक ग्लेशियर टूट गया, जिससे धौलीगंगा और अलकनंदा नदियों में बड़े पैमाने पर बाढ़ आ गई और घरों और पास के ऋषिगंगा बिजली परियोजना को नुकसान पहुंचा. आइटीबीपी के महानिदेशक एसएस देसवाल ने कहा, “यह संदेह है कि लगभग 100 श्रमिक साइट पर थे, जिसमें से 9-10 शव नदी से बरामद किए गए हैं. बचाव कार्य को भी बंद करना पड़ा था, क्योंकि धौली गंगा में जल स्तर एकसाथ बढ़ गया था.