अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों ने एएमयू क्लासेज व हॉस्टल खोलने के लिए एक प्रोटेस्ट मार्च निकाला. छात्रों की मांग थी कि AMU को बंद हुए काफी समय हो गया और ऑनलाइन क्लासेस करने में समस्या आ रही है. AMU मैं जल्दी से जल्दी ऑफलाइन क्लासेस स्टार्ट की जाए व छात्रों के रहने के लिए हॉस्टल में भी व्यवस्था की जाए। कोविड-19 के कारण एएमयू में क्लासेज पिछले काफी समय से बंद है और छात्र लगभग अपने अपने घरों से ऑनलाइन क्लासेज कर रहे हैं. छात्रों ने मौलाना आजाद लाइब्रेरी से लेकर एएमयू के बाबा सैयद गेट तक यह मार्च निकाला.

छात्रों का कहना था कि हम लोगों ने प्रोटेस्ट मार्च निकाला है ताकि हमारे एएमयू प्रशासन एएमयू खोलने के लिए आमादा हो। क्योंकि तमाम यूनिवर्सिटी ने नोटिस जारी किया है कि उनकी यूनिवर्सिटी फेस वाइस खोले जाएंगे. लेकिन हमारी यूनिवर्सिटी प्रशासन ने अभी तक इसका ध्यान नहीं दिया है. हमने भरपूर तवज्जो दिलाने के लिए यहां पर आए हैं. हम यह कहना चाहते हैं कि हमारी यूनिवर्सिटी ने एमबीबीएस के स्टूडेंट को बुलाया है उनके रहने के लिए व्यवस्था की गई है लेकिन दूसरी तरफ बीयूएमएस छात्र भी है लेकिन अभी तक उनको नहीं बुलाया है. उनका भी नुकसान हो रहा है। बहुत ज्यादा हो रहा है. अन्य छात्रों का भी यही कहना था कि यूनिवर्सिटी की ऑफलाइन क्लासेस को खोलने का इंतजाम करें.

वहीं मामले पर एएमयू के प्रॉक्टर वसीम अली ने कहा कि यह बच्चे आए हैं उन्होंने कुछ मांगे रखी अपनी. इनका कहना है हमारी जो ऑनलाइन क्लासेज है वह ऑफलाइन की जाए. दूसरी हमें हॉस्टल में रहने की व्यवस्था की जाए जिसको लेकर आज यह बच्चा आये है. इसमें कुछ हमारे सामने समस्या है क्योंकि गवर्नमेंट ऑफ इंडिया की गाइड लाइन है उस गाइड लाइन को हम पूरी तरह से फॉलो करते आ रहे हैं. यही वजह है कि हमारी यूनिवर्सिटी के अंदर अभी तक कोई परेशानी नहीं हुई। एक भी छात्र को कोरोना नहीं हुआ है. अब तक हमने उसी तरीके जो गाइडलाइन थी उनका पालन किया है. इसीलिए हॉस्टल को नहीं खोला गया है. काफी छात्र हॉस्टल में रहते हैं. सारे छात्रों को बुलाना बहुत मुश्किल है. अभी छात्रों ने जो मांगे रखी है उनकी मांगों को वीसी साहब के सामने रखा जाएगा.