अलीगढ़ : 95% फेल हुए छात्रो में आक्रोश अलीगढ़ डीएस डिग्री कॉलेज के प्राचार्य कक्ष के अंदर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे छात्र, फेल हुए छात्रों ने प्राचार्य कक्ष का घेराव करते हुए आगरा यूनिवर्सिटी के वीसी के खिलाफ नारेबाजी की. छात्रों ने संबोधन के दौरान कहा कि आगरा वीसी तेरी तानाशाही नहीं चलेगी, आगरा वीसी एक काम करो चूड़ी पहन कर डांस करो का नारा देते हुए छात्रों द्वारा मुर्दाबाद के नारे भी लगाए गए.

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय के खिलाफ छात्रों ने डीएस डिग्री कॉलेज के प्राचार्य का घेराव करते हुए बीएएलएलबी व एलएलबी अंतिम वर्ष के 95% छात्रों को परीक्षा परिणाम में फेल किये जाने का विरोध किया और प्राचार्य से मांग की कि परीक्षा परिणाम में संशोधन कराया जाय अन्यथा की स्थित में छात्र प्राचार्य कक्ष के अंदर ही धरने पर बैठे रहेंगे.

वहीं छात्रों का कहना है आगरा यूनिवर्सिटी ने बीए एलएलबी व एलएलबी अंतिम वर्ष के परीक्षा परिणामों के दौरान पूर्ण रूप से 95% छात्रों को फेल कर दिया गया. कोरोना वायरस महामारी मे ओएमआर सीट के द्वारा छात्रों की परीक्षाएं तानाशाही के चलते कराई गई. इस तानाशाही के चलते 95% छात्र-छात्राओं का भविष्य बर्बाद हो गया है. हम आंदोलन करने को बाध्य हैं. छात्र पिछले 15 दिन से छात्र कड़कड़ाती ठंड में दिन-रात यहा बैठ हुए है.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और आगरा यूनिवर्सिटी के वीसी, और प्राचार्य को अपने खून से छात्रों ने पत्र भी लिखा और लिखा की छात्र प्राचार्य की देहरी पर छात्र अपने प्राण त्याग देंगे. लेकिन कान पर जूं रेंगने का काम आगरा के वीसी के कानों में नहीं हुआ. जहां छात्र आज अलीगढ़ के धर्म समाज डिग्री कॉलेज के प्राचार्य के कार्यालय के अंदर छात्र अनिश्चितकालीन धरने पर बैठा हैं, और निरंतर यहाँ बैठे रहेंगे. छात्रों का 1 साल बर्बाद हो गया और 95% छात्रों का भविष्य बर्बाद कर दिया गया. महामारी के दौर में तीसरी बार छात्रों से पुनः परीक्षा शुल्क वसूला गया. छात्र परीक्षा परिणाम में तत्काल संशोधन की मांग को लेकर बैठे हैं परिणाम चाहे जो हो, लेकिन छात्रों का अनिश्चितकालीन निरंतर धरना प्रेदर्शन प्राचार्य कक्ष के अंदर लगातार चलता रहेगा.