कोरोना वायरस के खिलाफ करीब साल भर से चल रही जंग में निर्णायक कदम बढ़ाते हुए शनिवार को सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का आगाज हो गया. अलीगढ़ में टीके की 16850 खुराक पहुंच गई हैं. पहले अलीगढ़ में 14 केंद्रों पर यह टीका किया जाना था, लेकिन अब केवल चार केंद्रों पर टीका किया जा रहा है. शासन ने 10 केंद्रों को हटा दिया है. इसके साथ ही 14 सौ के बदले केवल 400 स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया जाएगा.

बता दें कि इन केंद्रों में पंडित दीनदयाल उपाध्याय संयुक्त चिकित्सालय, मोहनलाल गौतम महिला चिकित्सालय, सीएचसी अतरौली एवं सीएचसी अकराबाद शामिल है. 400 लाभार्थी के चयन में डॉक्टर, फार्मासिस्ट,एएनएम,वार्ड बॉय और स्वच्छता कर्मी का संतुलन बनाया गया है. क्योंकि एक ही कंपनी की पहली व दूसरी डोज लगेगी इसलिए टीकाकरण के बाद बचे हुए टीको को संभाल कर रखा जाएगा. सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया, पुणे द्वारा निर्मित यह कोविड शील्ड वैक्सीन है. जहां वैक्सीनेशन होना है उन केंद्रों को खूबसूरती से सजाया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वर्चुअल संबोधन को देखने के लिए भी तमाम इंतजाम हर केंद्र पर किए गए.

अलीगढ़ के सीएमओ डॉक्टर भानु प्रताप कल्याणी ने बताया कि अब हमारे देश में पूर्ण कोविड वैक्सीनेशन शुरू हो गया है. हमारे जनपद में अभी चार जगह पर वैक्सीनेशन शुरू हो रहा है. जिसमें एक मोहनलाल गौतम महिला चिकित्सालय है. प्रधानमंत्री के उद्बोधन के बाद वैक्सीनशन शुरू हो चुका है. हमारी तैयारियां पूरी तरह से है. जो सेशन है 9:00 बजे से 5:00 बजे तक है. जैसे इलेक्शन में बीच-बीच में प्रगति पूछी जाती रहती है, इसी तरह से 2:00 बजे 4:00 और 6:00 बजे हम बता पाएंगे कितना वैक्सीनेशन हुआ है. पहले फेस में स्वास्थ्य कर्मियों को टीकाकरण किया जाना है और एक बूथ पर 100 लोगों को टीकाकरण करने का हमारा लक्ष्य है.