बिहार की राजधानी पटना एक बार फिर अपराध की राजधानी बनती जा रही है. मंगलवार शाम पटना एयरपोर्ट पर तैनात इंडिगो के स्टेशन मैनेजर रूपेश कुमार सिंह की गोली माररकर हत्या कर दी गई. बताया जा रहा है कि बाइक सवार अपराधियों ने रूपेश पर ताबड़तोड़ 6 राउंड फायरिंग की और फिर हथियार लहराते हुए फरार हो गए. इस मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है. तो वहीं बिहार के मधुबनी जिले में मंगलवार को ही मूक-बधिर बच्ची के साथ हैवानियत हुई है.

इन सब घटनों की वजह से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक बार फिर विपक्ष के निशाने पर आ गए हैं. पूर्व डिप्टी सीएम और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने बुधवार सुबह ट्वीट करके कहा, ‘अनैतिक और अवैध सरकार के संरक्षण में अपराधों और दुष्कर्मों की प्रतिदिन संख्या बढ़ना NDA की सामूहिक विफलता है.’

उन्होंने कहा कि नीतीश जी द्वारा अपराधों को छिपाने की चेष्टा और उसे स्वीकार नहीं करना ही सबसे बड़ा अपराध और अपराधियों के लिए रामबाण है. उनसे बिहार नहीं संभल रहा, वो अविलंब इस्तीफा दें.

इससे पहले तेजस्वी यादव ने ट्वीट करके कहा था, ‘सत्ता संरक्षित अपराधियों ने पटना में एयरपोर्ट मैनेजर रूपेश कुमार सिंह की उनके आवास के बाहर गोलियां मार हत्या कर दी. वह मिलनसार और मददगार स्वभाव के धनी थे. उनकी असामयिक मृत्यु से बहुत दुःखी हूं. भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे. बिहार में अब अपराधी ही सरकार चला रहे है.’

तो वहीं उन्होंने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा कि मधुबनी में गरीब विकलांग बच्ची के साथ बलात्कार कर दिया गया है. दोनों आंखें भी फोड़ दी गईं हैं. गरीब छोटी छोटी बच्चियों के साथ बिहार में बलात्कार की लगातार खबरें आ रही हैं. पर गरीब जान कर ना सरकार सिहरती है और ना पुलिस हिलती है.

गौरतलब है कि बिहार के मधुबनी जिले के हरलाखी थाना क्षेत्र के किसी गांव में दरिंदों ने एक मूक-बाधिर लड़की के साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया है. वहीं, घटना के बाद दरिंदे ने उसकी दोनों आंखें फोड़ दी हैं. घटना मंगलवार दोपहर की बताई जा रही है.

वहीं इंडिगो के स्टेशन मैनेजर रूपेश कुमार सिंह की हत्या के बाद बिहार में सियासी पारा चढ़ने लगा है. पप्पू यादव ने सीबीआई जांच की मांग की है तो बीजेपी के सांसद विवेक ठाकुर ने अपनी ही सरकार पर सवाल उठाए हैं. विवेक ठाकुर ने कहा है कि या तो बिहार सरकार 3 से 5 दिन के भीतर अपराधियों को पकड़े या फिर ये मामला CBI को सौंपे.