अमेरिकी संसद में हुई हिंसा और प्रदर्शनों को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कड़े शब्दों’ में निंदा की है. राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि सभी अमेरिकियों की तरह, मैं हिंसा, अराजकता और हाथापाई से नाराज हूं. उन्होंने कहा कि मैंने इमारत को सुरक्षित करने और घुसपैठियों को बाहर निकालने के लिए तुरंत नेशनल गार्ड और पुलिस फोर्स को तैनात किया. उन्होंने कहा कि अमेरिका हमेशा कानून व्यवस्था का देश होना चाहिए. ट्रंप ने यह सभी बातें एक वीडियो संदेश के जरिए कहीं.

साथ ही ट्रंप ने नतीजों में अपनी हार स्वीकार करते हुए कहा कि अब कांग्रेस ने नतीजों को प्रमाणित कर दिया है. 20 जनवरी को एक नए प्रशासन का उद्घाटन किया जाएगा. मेरा ध्यान अब सत्ता के सुचारू, व्यवस्थित और निर्बाध परिवर्तन को सुनिश्चित करने के लिए है.

वहीं दूसरी तरफ अमेरिका के नव-निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन ने अमेरिकी संसद भवन पर धावा बोलने वाले दंगाइयों की निंदा करते हुए उन्हें ‘‘घरेलू आतंकवादी’’ करार दिया. उन्होंने देश की राजधानी को हिला कर रख देने वाली हिंसा की इस घटना के लिए निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को जिम्मेदार ठहराया. बाइडन ने कहा कि बुधवार को ट्रंप समर्थकों द्वारा अमेरिकी संसद भवन की सुरक्षा का उल्लंघन करना ‘‘असहमति या प्रदर्शन नहीं था ,बल्कि यह उपद्रव था.’’

बता दें कि अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हजारों समर्थकों ने अमेरिकी संसद भवन पर हमला किया और वे पुलिस से भिड़ गए. इस घटना में चार लोग मारे गए और राष्ट्रपति तथा उपराष्ट्रपति के रूप में क्रमश: जो बाइडन एवं कमला हैरिस के निर्वाचन को सत्यापित करने की प्रक्रिया बाधित हुई. कांग्रेस ने इस घटना के चलते हुए विलंब के बाद अंतत गुरुवार को अपने संयुक्त सत्र में बाइडन तथा हैरिस के निर्वाचन की औपचारिक रूप से पुष्टि कर दी.