केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने शनिवार को जहां यह ऐलान किया कि पूरे भारत में कोरोना की वैक्सीन का टीकाकरण मुफ्त में किया जाएगा, वहीं इस को लेकर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने विवादित बयान देकर सबको चौंका दिया है. समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा, ‘फिलहाल मैं टीका नहीं लगवा रहा हूं. मैं बीजेपी की वैक्‍सीन पर कैसे भरोसा कर सकता हूं, जब हमारी सरकार बनेगी तो सभी को फ्री में टीका लगेगा. हम बीजेपी की वैक्‍सीन नहीं लगवा सकते.

वैश्विक महामारी के खिलाफ केंद्र सरकार के सामूहिक स्वास्थ्य अभियान को लेकर अखिलेश यादव के इस तरह से गैर-जिम्मेदाराना बयान की चौतरफा आलोचना हो रही है, और अखिलेश इस बयान के बाद बीजेपी उन पर हमलावर हो गई है. बीजेपी नेता और उत्तर प्रदेश के उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने इसे डॉक्‍टरों और वैज्ञानिकों का अपमान बताते हुए अखिलेश यादव से माफी मांगने को कहा है.

केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, ‘आपने कोरोना वैक्‍सीन लगाने से मना करके केवल देश की सरकार का ही नहीं बल्कि उन डॉक्‍टरों और वैज्ञानिकों का भी अपमान किया है, जिन्‍होंने दिन-रात मेहनत करके इस वैक्‍सीन को तैयार किया है. जिसे लेने के लिए पूरा देश इंतजार कर रहा था, उसे लेने से इनकार करना इन सबका अपमान करना है, इसके लिए आप माफी मांगें.’ मौर्य ने आगे कहा, ‘जो मुख्‍यमंत्री के पद पर रहा है उसे ऐसे बयान देने से पहले हजार बार सोचना चाहिए.

श्री अखिलेश यादव जी को वैक्सीन पर भरोसा नहीं है और उत्तर प्रदेश वासियों को श्री अखिलेश यादव पर भरोसा नहीं है।
अखिलेश जी का वैक्सीन पर सवाल उठाना, हमारे देश के चिकित्सकों एवं वैज्ञानिकों का अपमान है जिसके लिए उन्हें माफ़ी माननी चाहिए।

— Keshav Prasad Maurya (@kpmaurya1) January 2, 2021

वहीं अखिलेश यादव के इस बयान पर उत्तर प्रदेश बीजेपी अध्‍यक्ष स्‍वतंत्र देव सिंह ने ट्वीट किया, ‘भ्रष्टाचार और गुण्डाराज को समाप्त करने के लिए “बीजेपी की वैक्सीन” कारगर साबित हुई है. आप कौन सी वैक्सीन की बात कर रहे हैं अखिलेश जी?’ तो वहीं इस के अलावा बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी अखिलेश यादव के बयान की आलोचना करते हुए ट्वीट किया,’हे प्रभु!!इनका क्या हाल हो गया है, अब वैक्सीन भी इन्हें BJP की दिख रही है’