नए कृषि कानूनों के विरोध में पंजाब-हरियाणा समेत अन्य राज्यों के किसान दिल्ली में डेरा जमाए बैठे हैं. वहीं उत्तर प्रदेश से लगने वाली सीमाओं पर हजारों किसानों लगातार 11 दिन से  प्रदर्शन कर रहे है. अब कृषि कानून के खिलाफ किसानों का आंदोलन जोर पकड़ता जा रहा है,  वहीं अब राजनीतिक दल भी खुलकर इसके समर्थन में आ गए हैं. इसी को लेकर समाजवादी पार्टी ने किसानों के समर्थन में किसान यात्रा निकालने की बात कही, लेकिन सोमवार सुबह से ही लखनऊ से लेकर कन्नौज तक पुलिस ने चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बढ़ा दी है. सपा की किसान यात्रा शुरू होने से पहले ही कुछ नेताओं को हिरासत में ले लिया गया है, तो वहीं लखनऊ में कुछ इलाकों को सील कर दिया गया है.

बता दें कि लखनऊ की विक्रमादित्य रोड जहां पर समाजवादी पार्टी का दफ्तर है, उसे छावनी में बदल दिया गया है. चप्पे-चप्पे पर पुलिस के जवान खड़े नजर आ रहे  हैं, और अखिलेश यादव को लखनऊ से कन्नौज जाना है, जहां पर वो किसान यात्रा में हिस्सा लेंगे.  समाजवादी पार्टी किसानों द्वारा मंगलवार को बुलाए गए भारत बंद का समर्थन कर रहीं.  आपको बता दें कि इतना ही नहीं बल्कि समाजवादी पार्टी के दफ्तर से लेकर अखिलेश यादव के घर तक लखनऊ में बैरिकेडिंग की गई है.  जहां किसी को भी आने-दाने की इजाजत नहीं है. यहां पर पुलिस प्रदर्शन जैसी स्थिति के लिए तैयार है और वाटर कैनन लिए खड़ी है, इलाके को सील कर दिया गया है.

वहीं लखनऊ पुलिस ने समाजवादी पार्टी के कुछ नेताओं को भी हिरासत में लिया है, जिसमें  MLC राजपाल कश्यप और आशू मलिक शामिल हैं. यह दोनों ही लखनऊ में समाजवादी पार्टी के दफ्तर जाने की कोशिश कर रहे थे, जिस इलाके को सील किया गया है. राजपाल कश्यप ने कहा कि पुलिस हमें क्यों रोक रही है, ये अघोषित आपातकाल है. आखिर अखिलेश यादव को क्यों रोका जा रहा है.  वहीं किसान यात्रा से पहले अखिलेश यादव ने आज सुबह ट्वीट भी किया. उन्होंने लिखा, ‘कदम-कदम बढ़ाए जा, दंभ का सर झुकाए जा, ये जंग है ज़मीन की, अपनी जान भी लगाए जा… ‘किसान-यात्रा’ में शामिल हों! #नहीं_चाहिए_भाजपा’

दरसअल उत्तर प्रदेश में 2022 में विधानसभा का चुनाव  है, ऐसे में अब अखिलेश यादव ने खुद ही मोर्चा संभाल लिया है. और किसान आंदोलन के जरिए जमीन पर राजनीति करने उतर रहे हैं, लेकिन यूपी पुलिस ने ऐसी सुरक्षा की है कि अभी तक सपा की ये किसान यात्रा शुरू नहीं हो सकी है.  वहीं किसान यात्रा को लेकर सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता अताउर्रहमान ने बताया कि किसान यात्रा के जरिए हमारी पार्टी केंद्र सरकार की नीतियों के बारे में किसानों को जागरुक करेगी. सपा नए कृषि कानूनों के खिलाफ सूबे के हर जिले में किसान यात्रा निकालेगी.