धान की खरीद ना होने से नाराज किसानों मंडी परिसर के अंदर ही धरने पर बैठ गए. जिसके बाद धरना प्रदर्शन करते हुए जमकर नारेबाजी की गई. पिछले करीब 15 दिन से धान लदे ट्रैक्टर मंडी परिसर में ही खड़े हुए है.

बता दें कि अलीगढ़ की हरदुआगंज धान मंडी में पिछले कई दिनों से किसानों का धान नहीं खरीदा जा रहा, जिसके विरोध में शनिवार को किसानों ने जिला प्रशासन के खिलाफ मंडी परिसर में धरना प्रदर्शन किया और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की, इसके उपरांत किसानों को समझाने पहुंचे बरौली विधायक ठाकुर दलवीर सिंह और एसडीएम कोल अनीता यादव की किसानों से काफी देर तक बातचीत हुई, लेकिन किसान अपनी मांगों पर अडिग हैं और उनका कहना है कि जब तक हमारा धान नहीं खरीदा जाएगा, तब तक वह धरने पर बैठे रहेंगे और जरूरत पड़ी तो हम लोग इसके लिए उग्र आंदोलन करने के लिए भी बाध्य होंगे.

वहीं एसडीएम अनीता यादव का कहना है कि मेरी डीएम और एडीएम साहब से बात हो गई है हम जल्दी ही किसानों की समस्या का समाधान करने का प्रयास करेंगे.

दरअसल शनिवार को भारतीय किसान यूनियन भानु के तत्वधान में प्रदेश महासचिव डॉ शैलेन्द्र पाल सिंह के नेतृत्व में हरदुआगंज मंडी में किसानों की समस्याओं को लेकर आंदोलन किया गया. जिसकी खबर सुनते ही क्षेत्रीय विधायक ठा दलवीर सिंह एवं एसडीएम अनीता यादव मंडी में पहुंचे और किसानों की समस्याओं को सुना और आश्वाशन दिया कि जल्द सभी समस्याओं का समाधान करा दिया जाएगा. जिस पर किसान नही माने ओर नारेबाजी ओर तेज कर दी.

भारतीय किसान यूनियन प्रदेश महासचिव डॉ शैलेंद्र पाल सिंह ने कहा करीब 10 से 15 ट्रैक्टर धान लदे खड़े हुए हैं. ना धान की खरीद हो रही और ना ही मक्का, बाजरे की खरीद हो रही. आश्वासन दिया जा रहा है, यहां पर मक्का और बाजरा खरीदने का सेंटर नहीं है. कहीं अन्य जगह बेचे धान का सेंटर है, लेकिन यह मानक के अनुरूप नहीं है इसलिए धान नहीं खरीदा जा रहा है. मुख्यमंत्री द्वारा कहा जा रहा है सब धान खरीदा जाएगा. जिलाधिकारी द्वारा कहा जा रहा है किसानों का पूरा धान खरीदा जाएगा. लेकिन यहां के जो सेंटर इंचार्ज और पीसीएफ के लोगों द्वारा किसानों से कहा जा रहा है कि धान मानक के अनुरूप नहीं है। इसलिए धान नहीं खरीदा जाएगा. पिछले कई दिन से धान लदे ट्रैक्टर खड़े हुए हैं. तो वही बड़े किसान और पीछे से पैसा दे रहे व्यापारियों का धान खरीदा जा रहा है. गरीब किसान कड़ाके की ठंड में बैठा हुआ है. लेकिन कोई भी प्रशासनिक अधिकारी किसानों के पास आने को तैयार नहीं है.

वहीं उपजिलाधिकारी ने आश्वासन दिया कि 3 दिन के अंदर किसानों की हर समस्याओं को दूर कराया जाएगा. उसके बाद किसान मंडी में रुके रहे और किसान गंगनहर के अधिकारियों को मौके पर बुलाने की मांग करने लगे. उच्च अधिकारी जिले से बाहर होने के कारण जूनियर इंजीनियर मौके पर पहुंचे और आश्वासन दिया कि कल से माइनर में कार्य प्रारंभ हो जाएगा. उसके बाद क्षेत्राधिकारी प्रशांत सिंह को ज्ञापन दिया और मांग की जिले के सभी क्रय केंद्रों पर धान की खरीद कराई जाए. काशिमपुर माइनर को सही कराकर अन्तिम कुलावे तक किसान को पानी उपलब्ध कराया जाए.

हालांकि इस सबके बाद क्षेत्रीय विधायक ठा दलवीर सिंह ने मंडी में तुलाई शुरू करवाई उपजिलाधिकारी ओर पुलिस क्षेत्राधिकारी के आश्वाशन पर किसानों के धरना प्रदशर्न के आंदोलन को समाप्त किया गया.