भारतीय जनता पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति ने बिहार में होने वाले आगामी राज्यसभा उपचुनाव-2020 के लिए पूर्व उप-मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता सुशील मोदी को अब राज्यसभा भेजा जाएगा. बीजेपी ने उन्हें बिहार से राज्यसभा का उम्मीदवार बनाया है. यह जानकारी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने दी है. बता दें कि लोक जनशक्ति पार्टी नेता रामविलास पासवान के हाल में निधन के बाद बिहार की राज्यसभा सीट खाली हुई है. पासवान के निधन के बाद खाली हुई राज्यसभा की सीट पर उपचुनाव होगा. जिसके लिए अब बीजेपी ने इसके लिए सुशील मोदी को चुना है. इस बार उन्हें बिहार का डिप्टी सीएम नहीं बनाया गया था. तब से ही इस बात की चर्चा थी कि उन्हें पार्टी नई जिम्मेदारी दे सकती है.

गौरतलब है कि बिहार की एनडीए सरकार में नीतीश कुमार मंत्रिमंडल में महागठबंधन की सरकार को छोड़ दें तो सुशील मोदी लगातार उप-मुख्यमंत्री के पद पर रहे. उन्हें नीतीश कुमार का खास भरोसेमंद साथी माना जाता था. हालांकि, इसी बात को लेकर कई बार सुशील मोदी की पार्टी नेताओं की तरफ से आलोचना भी की जाती रही. सुशील मोदी पर ऐसा आरोप लगा कि उन्होंने कभी नीतीश कुमार के फैसले का पार्टी हित में भी विरोध नहीं किया.

वहीं अब इस सबके बीच बीजेपी सुशील कुमार मोदी का कद बढ़ाने की तैयारी में है. सुशील मोदी अब राज्यसभा के रास्ते केंद्र में जा सकते हैं, जहां उन्हें बड़ी जिम्मेदारी देने की चर्चाएं हैं. बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव-2020 में एनडीए सरकार बनने के बाद सुशील मोदी की डिप्टी सीएम के पद से छुट्टी हो गई थी. इसके बाद से कयास लगाए जा रहे थे कि बीजेपी उन्हें केंद्र में सेट करना चाहती है.

वहीं मौके पर बीजेपी के सीनियर प्रवक्ता शहनावज हुसैन ने सुशील मोदी बधाई देते हुए कहा कि बिहार भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी जी को बीजेपी की तरफ़ से बिहार में होनेवाले राज्यसभा उप-चुनाव में पार्टी का उम्मीदवार बनाए जाने पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं.

आपको बता दें कि 2005 में बिहार चुनावों में एनडीए को बहुमत मिला. जिसके बाद नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने तो सुशील मोदी को उपमुख्यमंत्री की जिम्मेदारी मिली. साथ में वित्त मंत्रालय और कई अन्य विभागों की जिम्मेदारी संभाली थी. 2010 में एनडीए की फिर जीत हुई और नीतीश सरकार में सुशील मोदी फिर उपमुख्यमंत्री बने. वित्त मंत्री के रूप में जुलाई 2011 में सुशील मोदी को GST पर बनी राज्यों के वित्त मंत्रियों की समिति का चेयरमैन बनाया गया था. वहीं, 2020 के चुनाव में भी सुशील मोदी बीजेपी का सबसे बड़े चेहरा रहे. बीजेपी इस बार बड़े भाई की भूमिका है. जेडीयू इस बार 43 सीटों पर जीती है जबकि बीजेपी को 74 सीटें मिली हैं.