दिल्ली कूच कर रहे किसानों का प्रदर्शन अंबाला-पटियाला बॉर्डर पर उग्र होता जा रहा है. और उन्होनें रास्ता रोकने के लिए लगाई गईं बैरिकेडिंग को उखाड़ फेंका है. इसके बाद पुलिस ने चेतावनी के साथ किसानों पर टीयर गैस और पानी की इस्तेमाल कर दिया. वहीं किसानों के प्रदर्शन के मद्देनजर दिल्ली मेट्रो को भी बंद रखा गया है.

वहीं दिल्ली पुलिस के मुताबिक किसानों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए उन्होंने पूरी तैयारी कर ली है. नई दिल्ली डिस्ट्रिक्ट के लिए 12 कंपनी फ़ोर्स बाहर से बुलाई गई है, जिनमें सीआरपीएफ और आरएएफ के जवान हैं. करीब 1200 दिल्ली पुलिसकर्मी भी नई दिल्ली डिस्ंस्ट्रिक्ट मे तैनात किये गए हैं, जिनमें दूसरी डिस्ट्रिक्ट के पुलिसकर्मी भी हैं .कुल मिलाकर नई दिल्ली डिस्ट्रिक्ट और आसपास करीब 2500 पुलिसकर्मि तैनात हैं, जिनमे पैरमिलिट्री फ़ोर्स भी शामिल है. इतना ही नही सभी बॉर्डर को भी सील किया गया है. प्रोपर चेकिंग के बाद ही गाड़ियों को दिल्ली में अंदर आने दिया जा रहा है.

जहां एक तरफ पंजाब-हरियाणा से किसान कृषि कानून के विरोध में दिल्ली की तरफ कूच करने की तैयारी में हैं वहीं कोलकाता के जाधवपुर में लेफ्ट का प्रदर्शन चल रहा है. श्रम कानूनों के विरोध में लेफ्ट और कुछ अन्य दल बंद के दौरान जाधवपुर में ट्रेन रोक रहे हैं.

वहीं अब किसानों के प्रदर्शन पर राजनीतिक प्रतिक्रियाएं आ रही हैं, कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर लिखा कि किसानों से समर्थन मूल्य छीनने वाले कानून के विरोध में किसान की आवाज सुनने की बजाय भाजपा सरकार उन पर भारी ठंड में पानी की बौछार मारती है. किसानों से सबकुछ छीना जा रहा है और पूंजीपतियों को थाल में सजा कर बैंक, कर्जमाफी, एयरपोर्ट रेलवे स्टेशन बांटे जा रहे हैं.