उत्तर प्रदेश के बागपत में लव जिहाद का फिर एक सनसनीखेज मामला सामने आया है, जहां पहले से शादीशुदा एक मुस्लिम डॉक्टर ने हिंदू नाम बताकर एक तलाकशुदा महिला नर्स को शादी का झांसा देकर अपने प्रेम जाल में फंसाया, और 7 महीने तक उनका शारीरिक शोषण किया. जब नर्स प्रेग्नेंट हो गई तो डॉक्टर ने उनके सामने धर्म परिवर्तन की शर्त रखकर शादी करने का प्रस्‍ताव रखा था. पीड़ि‍ता ने इससे इनकार कर दिया. अब उन्‍होंने पुलिस से कार्रवाई की गुहार लगाई है. मामले में बागपत एएसपी मनीष मिश्रा ने बताया कि डॉक्टर की पहली पत्नी और उसके भाई को गिरफ्तार कर लिया गया है. मुख्य आरोपी डॉक्टर की पुलिस तलाश कर रही है.

दरअसल, मामला बागपत जनपद के एक कस्‍बे की तलाकशुदा महिला लव ज़िहाद का शिकार हुई है. पीड़िता के मुताबिक, वह एक प्राइवेट अस्पताल में नर्स है. करीब एक वर्ष पूर्व उसकी मुलाकात बड़ौत कोतवाली क्षेत्र के कोताना गांव के रहने वाले एक शख्स से हुई थी जिसने अपना नाम अक्ष बताया था. वहीं पीड़िता का आरोप है कि उसने अपनी पहचान छिपाकर उसे अपने प्रेम जाल में फंसाया, फिर शादी का वादा कर सात महीने तक उससे दुष्‍कर्म किया. बाद में धर्म परिवर्तन की शर्त रखकर शादी करने का प्रस्‍ताव रखा था. नर्स छह महीने की गर्भवती है. बुधवार को उन्‍होंने पुलिस अधीक्षक से मिलकर न्‍याय की गुहार लगाई. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

साथ ही पीड़ि‍ता का आरोप है कि डॉक्‍टर ने उन्‍हें बंधक बनाकर यातना भी दी. आरोपी डॉक्‍टर शादीशुदा है और उसके दो बेटे भी हैं. पीड़ित खेकड़ा थाना के कस्बे की रहने वाली है, जो बड़ौत के एक निजी अस्पताल में स्टाफ नर्स के पद पर कार्यरत है. डॉक्‍टर ने खुद को तलाकशुदा बताकर उनके साथ शादी करने की बात कही. पिछले 7 माह से वह उनके साथ शारीरिक संबंध बनाता रहा. आरोपी ने युवती का अश्लील वीडियो भी बना लिया था. जब भी वह शादी की बात कहती, डॉक्‍टर अश्‍लील वीडियो दिखाकर उनका मुंह बंद कर देता.

बता दें कि जब इस बीच, युवती प्रेग्‍नेंट हो गई तो डॉक्‍टर ने उस पर बच्‍चा गिराने का दबाव बनाया. आरोप है कि गर्भपात कराने से इनकार करने पर उनके साथ मारपीट की गई. साथ ही धर्म परिवर्तन का दबाव भी बनाया गया. पीड़िता ने आरोपी डॉक्टर की पहली पत्नी पर भी मारपीट का आरोप लगाया है. आरोप है कि मंगलवार को जब नर्स डॉक्‍टर के घर पहुंची तो उसकी पत्‍नी और भाई ने उनके साथ मारपीट की. उनके पेट पर लात मारी और बच्‍चे को गिराने का प्रयास किया, जिससे उनकी हालत बिगड़ गई. वह किसी तरह आरोपियों के चंगुल से मुक्त हुईं और पुसिल से शिकायत की. पीड़िता ने एसपी बागपत को लिखित शिकायत देते हुए कारवाई की गुहार लगाई.