दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए यूपी सरकार ने भी नोएडा में आपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं. बता दें कि दिल्ली और नोएडा के बीच हजारों की संख्या में हर दिन लोगों का आना-जाना लगा रहता है. जिस वजह से नोएडा प्रशासन ने भी कुछ ऐहतियाती कदम उठाने का फैसला किया है.

जिसके बाद अब नोएडा से सटे सभी बॉर्डर पर कल से रैंडम कोरोना टेस्ट होगा. गौतमबुद्ध नगर जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने एक्शन प्लान तैयार किया है. इलाकों को माइक्रो कंटेनमेंट जोन में तब्दील किया जाएगा. जहां एक से ज्यादा संक्रमित व्यक्ति मिलेगा, वहां टारगेट सैंपलिंग की जाएगी. इसमें डिलीवरी ब्वॉय, दुकानदार और रिक्शा चालक सहित अन्य लोग शामिल होंगे. जिलाधिकारी ने साफ किया कि नोएडा और दिल्ली के बीच लोगों की आवाजाही पर कोई रोक नहीं होगी.

इसके साथ ही गौतमबुद्ध नगर के सभी इंस्टीट्यूशंस को एडवाइजरी जारी की गई है. इसके तहत क्रॉस बॉर्डर पार करने वालों पर खास नजर रखने के निर्देश दिए गए हैं. जिलाधिकारी ने कहा कि दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर अधिकारियों को टीम बनाने का निर्देश दिया, जो दिल्ली नोएडा फ्लाई वे और चिल्ला में नोएडा-दिल्ली की सीमा पर तैनात रहेगी और राष्ट्रीय राजधानी से आने वाले लोगों की औचक कोविड-19 जांच करेगी.

वहीं सुहास एलवाई ने कहा कि हाल के दिनों में त्योहार होने की वजह से दिल्ली और नोएडा में लोगों की आवाजाही बढ़ी है और इसलिए आने वाले कुछ दिन बहुत ही अहम होंगे. जिसके मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग को भी अस्पतालों में पर्याप्त तैयारी रखने के निर्देश दिया गया है. उन्होंने बताया कि औचक जांच रैपिड एंटीजन किट से की जाएगी.

बता दें कि दिल्ली में कोरोना का कहर बढ़ता जा रहा है. इस वजह से दिल्ली सरकार ने शादियों में मिली छूट वापस ले ली है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को कहा कि हमने शादी समारोह में 200 लोगों तक के शामिल होने की इजाजत को वापस ले लिया है. अब सिर्फ 50 लोग ही शादी समारोह में शामिल हो सकते हैं. इसके अलावा दिल्ली में छोटे-छोटे हिस्सों में लॉकडाउन भी लग सकता है. इस बारे में केंद्र सरकार को दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने प्रस्ताव भेजा है.