जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने एक बार फिर भड़काऊ बयान दिया है. महबूबा मुफ्ती ने बीजेपी सरकार मुसलमानों को निशाना बना रही है ,कश्मीरियों को उनकी जगहों से निकाला जा रहा है, और जम्मू कश्मीर की जमीन अपने पूंजीपति समर्थकों को बेचने जा रही है. साथ ही महबूबा मुफ्ती ने साफ तौर पर आरोप लगाते हुए कहा है कि 370 के बहाने केंद्र सरकार कश्मीर के मुसलमानों की जमीन हड़पना चाहती है. तो वहीं महबूबा मुफ्ती ने इसका अंजाम भुगतने की चेतावनी भी दी है.

बता दें कि महबूबा मुफ़्ती सोमवार को दक्षिण कश्मीर के पहलगाम के जंगलो में रहने वाले गुज्जर और बकरवाल समुदाय से मिलने पहुंची थी जिनके कोठार को पिछले दिनों में वन विभाग ने तहस नहस किया था. जहां महबूबा मुफ्ती ने कहा है, सरकार गुज्जर बकरवाल समुदाय को खदेड़ रही है और भारत के अन्य लोगों को यहां बसाना चाहती है. महबूबा मुफ्ती ने आरोप लगाया है कि सरकार यहां के लोगों को भागना चाहती है. विवादित बयान देते हुए महबूबा मुफ्ती ने कहा है, ‘इन अमन पसंद लोगों को जबरदस्ती धकेला जा रहा है. इनके साथ छेड़छाड़ मत कीजिये, इसके बहुत खतरनाक अंजाम भुगतने पड़ सकते हैं.

दरअसल महबूबा मुफ्ती के अनुसार केंद्र सरकार 370 को हटा कर देश भर के लोगों को कश्मीर में लाकर बसना चाहती है और दूसरी तरफ यहां के पुश्तैनी लोगों को खदेड़कर कश्मीर से भगाना चाहती है. महबूबा ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर केंद्र सरकार ने गुज्जर और बकरवाल समुदाय को निशाना बनाना नहीं छोड़ा तो आशंका है कि यह लोग अमन और शांति की रह छोड़ कर हिंसा का साथ ना थाम लें.

मुफ्ती ने कहा है, सरकार जम्मू कश्मीर की जमीन की बिक्री करना चाहती है. पहले ही सरकार 24 हजार कनाल जमीन इंडस्ट्री को दे चुकी है. अब सरकार जंगलों से यहां के स्थानीय लोगों को खदेड़ कर और जमीन बड़े उद्योगपतियों को देना चाहती है, जिनसे इन्हें फंड्स मिलते हैं.