उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के सदर विधानसभा के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के खिलाफ सरकार का अभियान जारी है. मुख्तार अंसारी का एक एफसीआई (FCI) गोदाम शुक्रवार को प्रशासन ने कुर्क कर लिया. यह संपत्ति मुख्तार की पत्नी और रिश्तेदारों के नाम पर है.

बता दें कि मुख्तार अंसारी की पत्नी आफसा अंसारी और उनके साले के नाम एफसीआई के गोदाम को गैंगस्टर एक्ट 14(1) के तहत कुर्क करने की कार्रवाई की गई. एफसीआई के इस गोदाम से मुख्तार अंसारी को 15 लाख रुपये महीने की आय रही थी, जो अब प्रदेश सरकार के राजस्व खाते में जमा होगी. कुर्की की कार्रवाई एसडीएम निरंकार सिंह और सीओ सिटी नरेश कुमार के साथ बड़ी संख्या में फोर्स बल की मौजूदगी में की गई. वहीं इस संपत्ति की वैल्यू 4 करोड़ रुपये बताई जा रही है.

आपको बता दें कि इसे पहले भी पुलिस मुख्तार अंसारी की  करोड़ों की संपत्ति कुर्क कर चुकी है.  साथ ही पुलिस ने मुख्तार के खास गुर्गे की संपत्ति पर भी कार्रवाई की थी. पुलिस ने वहां अवैध रूप से बने दो मंजिला मकान को कुर्क किया था, उसका मालिक राजन सिंह मुख्तार अंसारी का बेहद करीबी है. ठेकेदार मन्ना सिंह हत्याकांड के गवाह रहे रामसिंह मौर्या की हत्या में भी राजन सिंह मुख्तार अंसारी के साथ मुकदमे में आरोपी रहा है. राजन सिंह के ऊपर पहले से दर्ज गैंगस्टर एक्ट के केस में 14 (1) के तहत अवैध रूप से बनी संपत्ति की जब्तीकरण की कार्रवाई की गई थी.

वहीं  एसडीम सदर और सीओ सिटी के नेतृत्व में एफसीआई कुर्की की कार्रवाई को पूरा किया गया. गोदाम 15 बीघे जमीन पर बनाया गया है. पूरे गोदाम की कीमत लगभग 4 करोड़ रुपये के आसपास है. एसडीएम सदर निरंकार सिंह ने बताया शुक्रवार को मुख्तार अंसारी की पत्नी और उनके साले के नाम पर बने गोदाम को गैंगेस्टर के तहत कुर्क करने का काम किया गया है. इस गोदाम से मुख्तार अंसारी को 15 लाख रूपये महीन आय होती थी जिसको अब सरकार के खाते में जमा किया जाएगा.

Happy Diwali